दिल्ली में शनिवार से अब तक तीन अलग-अलग घटनाओं में नौ हत्याएं हो चुकी हैं. इस सिलसिले में आम आदमी पार्टी (आप) ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधा है. दिल्ली में सत्तारूढ़ दल ने बिगड़ती कानून-व्यवस्था के लिए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा), इसके सांसदों, उप-राज्यपाल तथा केंद्रीय गृह मंत्री को जिम्मेदार बताया. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि राजधानी में गंभीर अपराध बढ़ते जा रहे हैं, ऐसे में सुरक्षा के लिए किसके पास जाना चाहिए.

शनिवार सुबह दक्षिणी दिल्ली के महरौली इलाके में 42 वर्षीय एक व्यक्ति ने अपनी पत्नी और तीन बच्चों की गला काटकर हत्या कर दी. उसी दिन की एक अन्य घटना में द्वारका में कुछ अज्ञात लोगों ने घर में घुसकर 51 वर्षीय बुजुर्ग और उनकी पत्नी की चाकू मारकर हत्या कर दी. फिर रविवार की सुबह वसंत विहार इलाके में एक बुजुर्ग दंपति तथा उनके नौकर की लाश मिली. उनका भी गला कटा हुआ था.

इन हत्याओं को लेकर रविवार को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट किया, ‘दिल्ली में गंभीर अपराधों में खतरनाक वृद्धि देखी जा रही है. एक बुजुर्ग दंपति और उनका नौकर वसंत विहार में मृत पाया गया. शहर में पिछले 24 घंटों में नौ हत्याएं हो चुकी हैं. दिल्ली वालों की सुरक्षा के लिए किसका दरवाजा खटखटाया जाना चाहिए?’

उधर, अरविंद केजरीवाल के इस ट्वीट के जवाब में दिल्ली पुलिस ने अपराध बढ़ने के दावे को खारिज कर दिया. पीटीआई के मुताबिक पुलिस ने कहा, ‘दिल्ली में इस तरह अपराध नहीं बढ़ा है. इस साल 2018 की तुलना में जघन्य अपराध 10 प्रतिशत कम हुए हैं. इसी तरह बुजुर्गों के खिलाफ जघन्य अपराध 22 प्रतिशत कम हुआ है.’