बीते मंगलवार को झारखंड के सरायकेला-खरसावां जिले में मॉ​ब किलिंग (भीड़ द्वारा पिटाई-हत्या) के मामले में पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया है. इसके अलावा पुलिस के दो अधिकारियों को बर्खास्त भी कर दिया गया है. खबरों के मुताबिक इस मामले में पुलिस को फिलहाल एक और शख्स की तलाश है जो मृतक तबरेज अंसारी की पिटाई करने में शामिल था.

इससे पहले 17 जून को सरायकेला-खरसावां में कुछ लोगों ने मोटरसाइकिल चुराने के आरोप में 24 वर्षीय तबरेज अंसारी को पकड़ा था. बाद में खंभे से बांधकर सात घंटे तक उसकी पिटाई की थी. साथ ही उस दौरान उसे जय श्रीराम और जय हनुमान बोलने के लिए भी कहा था. बाद में उन लोगों ने उसे पुलिस को सौंप दिया था. फिर पुलिस ने उसे जिले की ही एक जेल में डाल दिया जहां उसकी तबीयत बिगड़ने पर उसे अस्पताल में दाखिल कराया गया था. इसके बाद बीते शनिवार को अस्पताल में उसकी मौत हो गई थी.

इस दौरान अंसारी के परिवारवालों ने पुलिस और मामले के दूसरे संबंधित लोगों के प्रति कड़ी कार्रवाई की मांग की है. वहीं मृतक की बीवी ने कहा है, ‘मेरा ससुराल पक्ष में मेरा कोई नहीं है. मैं किसके सहारे जिऊंगी. मुझे न्याय चाहिए.’ वहीं झारखंड के एक मंत्री सीपी सिंह ने कहा है कि मॉब लिंचिंग-किलिंग की इन घटनाओं का राजनीतिकरण नहीं होना चाहिए. सिंह के मुताबिक, ‘ऐसी घटनाओं को लेकर भाजपा, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, बजरंग दल और विहिप के लोगों को जिम्मेदार ठहराने का चलन भी शुरू हो गया है. इससे भी बचा जाना चाहिए.’