‘बिहार में बच्चों की मौत का जिक्र न करके प्रधानमंत्री ने देश को निराश किया.’  

— अधीर रंजन चौधरी, लोकसभा में कांग्रेस के नेता

अधीर रंजन चौधरी ने यह बात लोकसभा में मंगलवार को दिए गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण को लेकर कही. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा, ‘ऐसा करके प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आम लोगों की आंखों में धूल झोंकने की कोशिश की है.’ अधीर रंजन चौधरी के मुताबिक, ‘हमें अपेक्षा थी कि नरेंद्र मोदी अपने रवैये से सभी दलों के बीच सामंजस्य स्थापित करने का प्रयास करेंगे जिससे आने वाले दिनों में संसद सुचारु रूप से चल सके लेकिन उनके भाषण में हमें इसका भी अभाव दिखा है.’

‘कांग्रेस ने पीवी नरसिंह राव और मनमोहन सिंह जैसे अपने ही नेताओं के योगदान को कभी याद नहीं किया और न ही उनकी तारीफ की.’  

— नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री

नरेंद्र मोदी ने यह बात लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव के दौरान दिए अपने संबोधन के दौरान कही. इस मौके पर कांग्रेस पर निशाना साधते हुए उन्होंने यह भी कहा, ‘इस पार्टी ने सिर्फ गांधी परिवार के योगदान का ही सम्मान किया है लेकिन हमने किसी के योगदान को नकारा नहीं. हम 130 करोड़ की आबादी की बात करते हैं जिसमें हर कोई शामिल होता है.’ नरेंद मोदी ने आगे कहा, ‘प्रणब मुखर्जी हमारी पार्टी के नहीं थे लेकिन हमने उन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया.’


‘बीते पांच साल से देश में सुपर इमरजेंसी लगी हुई है.’  

— ममता बनर्जी, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री

ममता बनर्जी ने यह बात एक ट्वीट के जरिये इमरजेंसी (आपातकाल) की 44वीं वर्षगांठ के बहाने नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कही. इसी ट्वीट से उन्होंने यह भी कहा, ‘हमें इतिहास से सबक सीखना चाहिए और अपनी लोकतांत्रिक संस्थाओं और देश को बचाने के लिए संघर्ष करना चाहिए.’


‘जिस तरह ममता बनर्जी शासन कर रही हैं वह आपातकाल से कम नहीं है.’  

— प्रकाश जावड़ेकर, केंद्रीय पर्यावरण और सूचना एवं प्रसारण मंत्री

प्रकाश जावड़ेकर ने यह बात ममता बनर्जी के एक बयान पर पलटवार करते हुए कही. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा, ‘ममता बनर्जी सबसे खराब सरकार चला रही हैं. उनके शासन में पश्चिम बंगाल हिंसा की चपेट में है.’ प्रकाश जावड़ेकर ने आगे कहा, ‘भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) लोकतंत्र की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध है. साल 1975 में भाजपा ने देश बचाया था और अब वह पश्चिम बंगाल में भी ऐसे शासन से मुकाबला करेगी.


‘किसी का गला दबाकर नहीं बल्कि उसे गले लगाकर जय श्रीराम बुलवाया जा सकता है.’  

— मुख्तार अब्बास नकवी, केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री

मुख्तार अब्बास नकवी ने यह बात एक कार्यक्रम के दौरान बीते हफ्ते झारखंड में भीड़ द्वारा एक मुस्लिम युवक की हत्या को लेकर कही. इस मौके पर उन्होंने ऐसी घटनाओं को गलत ठहराया और कहा, ‘विकास के एजेंडे पर विध्वंस का एजेंडे हावी नहीं होने दिया जाएगा.’ इसके साथ ही उनका यह भी कहना था, ‘ऐसी घटनाओं में शामिल लोगों का मकसद देश के सकारात्मक माहौल को खराब करने के सिवाय कुछ और नहीं है.’


‘विश्व कप में पाकिस्तान को भारत से मिली हार के बाद मैं आत्महत्या कर लेना चाहता था.’  

— मिकी आर्थर, पाकिस्तान की ​क्रिकेट टीम के प्रमुख कोच

मिकी आर्थर ने यह बात पत्रकारों के साथ बातचीत करते हुए कही. इस मौके पर उन्होंने यह भी कहा, ‘उस हार की पाकिस्तान की मीडिया में काफी आलोचना हुई. प्रशंसक भी निराश थे. कुछ तो इतना अधिक कि खिलाड़ियों को मार डालने की वकालत कर रहे थे. लेकिन हमने टीम के खिलाड़ियों को लगातार यही समझाया कि वह सिर्फ एक मैच था. हमें आगे अच्छा करना है.’ मिकी आर्थर ने आगे कहा, ‘उस मैच के बाद पाकिस्तान ने दक्षिण अफ्रीका को हराया. ऐसे में हमारे पास अब भी सेमीफाइनल में पहुंचने का मौका बरकरार है.’