अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोंपियो ने आज अपने भारत दौरे के तहत सबसे पहले दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की. इस तीन दिवसीय दौरे में माइक पोंपियो रूस से एस-400 मिसाइल सिस्टम खरीदने के मुद्दे पर प्रमुखता से चर्चा कर सकते हैं. इसके अलावा दोनों देशों के बीच व्यापार सहयोग, ऊर्जा और अंतरिक्ष से जुड़े मुद्दों पर भी चर्चा हो सकती है.

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक प्रधानमंत्री से मुलाकात करने के बाद माइक पोंपियो भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर से दोपहर के भोजन के दौरान मुलाकात करेंगे. आगामी 28 जून को जापान में जी-20 शिखर सम्मेलन के दौरान प्रधानमंत्री मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बीच होने वाली मुलाकात से पहले दोनों विदेश मंत्रियों की यह बैठक अहम मानी जा रही है.

एस जयशंकर के अलावा माइक पोंपियो राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल से भी मिलेंगे. खबर के मुताबिक एनएसए अजीत डोभाल और पोंपियो के बीच आतंकवाद और रक्षा जैसे कई अहम मुद्दों पर बातचीत हो सकती है. इसके बाद अमेरिकी विदेश मंत्री भारत के बड़े व्यापारियों से भी मुलाकात करेंगे. वे दिल्ली के इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में आयोजित होने वाले एक कार्यक्रम में व्यापारियों को संबोधित करेंगे.

हालांकि पोंपियो की भारत यात्रा शुरू होने के साथ दोनों देशों के व्यापारिक मतभेद भी सामने आए हैं. मंगलवार को जब माइक पोंपियो दिल्ली पहुंचे, उसी दौरान अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने एक नोट जारी कर कहा कि भारत-अमेरिका स्वाभाविक साझेदार हैं जिनके संबंध अटूट हैं लेकिन, उनके बीच व्यापारिक मतभेद हैं.

नोट में कई क्षेत्रों को लेकर भारत और अमेरिका के संबंध मधुर और मजबूत बताए गए हैं. लेकिन इसके साथ यह भी कहा गया कि अब ‘आर्थिक स्तर पर और खुलापन लाने की जरूरत है’. इस बारे में नोट में लिखा है, ‘ट्रंप प्रशासन यह सुनिश्चित करने में लगा हुआ है कि जिस तरह भारतीय कंपनियां अमेरिका में काम कर रही हैं, उसी तरह अमेरिकी कंपनियां भी भारत में काम कर पाएं.’