असम में राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (एनआरसी) से क़रीब एक लाख लोग और बाहर हो गए हैं. ये वे लोग हैं जिनके नाम बीते साल एनआरसी के अंतिम मसौदे में शामिल किए गए थे. लेकिन बाद उन्हें भारतीय नागरिकता के अयोग्य ठहरा दिया गया.

ख़बरों के मुताबिक एनआरसी के राज्य समन्वयक प्रतीक हजेला ने बताया है, ‘नागरिकता (नागरिकों का पंजीयन और उन्हें राष्ट्रीय पहचान पत्र जारी करने संबंधी) नियम-2003 के उपबंध-5 के प्रावधानों के अनुसार एक अतिरिक्त सूची जारी की गई है. इसमें 1,02,462 ऐसे नागरिकों के नाम शामिल किए गए हैं, जो एनआरसी से बाहर हो गए हैं. यानी इन्हें अब विदेशी नागरिक मान लिया गया है.’

ग़ौरतलब है कि बीते साल 30 जून को एनआरसी का अंतिम मसौदा जारी किया गया था. इसमें असम में रहने वाले 3.29 करोड़ आवेदकों में से 2.89 करोड़ लोगाें के नाम शामिल किए गए थे. लगभग 40 लाख लोगों को तब एनआरसी से बाहर किया गया था. इसके बाद अंतिम मसौदे पर दावे और आपत्तियां आमंत्रित की गईं. बताया जाता है कि करीब 36 लाख लोगाें ने दावे-आपत्तियां जमा कराए थे.