प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने झारखंड में कुछ दिन पहले भीड़ की पिटाई यानी मॉब लिंचिंग की घटना में एक युवक की मौत पर चुप्पी तो़ड़ी है. प्रधानमंत्री ने कहा है कि झारखंड की घटना से वे आहत हैं.

पीटीआई के मुताबिक बुधवार को राज्यसभा में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के अभिभाषण पर हुई चर्चा का जवाब देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कहना था, ‘मॉब लिंचिंग की घटनाएं गलत हैं, युवक की हत्या का दुख मुझे भी है और सबको होना चाहिए. दोषियों को सजा होनी चाहिए....दोषियों के साथ न्यायिक प्रक्रिया के तहत जो भी किया जा सके, वह किया जाना चाहिए.’

प्रधानमंत्री का यह भी कहना था, ‘लेकिन इस घटना के लिए पूरे झारखंड के लोगों को दोषी मान लेना गलत है. झारखंड को मॉब लिंचिंग का अड्डा बताया गया. इस घटना के बिनाह पर एक राज्य को दोषी बताना क्या हमें शोभा देता है. फिर तो हमें वहां अच्छा करने वाले लोग ही नहीं मिलेंगे. सबको कटघरे में लाकर राजनीति तो कर लेंगे लेकिन हालात नहीं सुधार पाएंगे.’

इससे पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा था कि झारखंड मॉब लिंचिंग और हिंसा की फैक्ट्री बन गया है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी कहा था कि इस घटना पर सत्ताधारियों की खामोशी हैरान करने वाली है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को राज्यसभा में अपने संबोधन के दौरान कांग्रेस पर तीखा हमला भी बोला. उन्होंने सवाल किया कि आम चुनाव में कांग्रेस हारी तो देश हार गया, ये कौन सा तर्क है. उन्होंने कहा कि इस तरह के बयान देश के मतदाताओं को कटघरे में खड़ा करने जैसे हैं.