संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की उम्मीदवारी को एशिया-प्रशांत के सभी देशों का समर्थन

वैश्विक कूटनीति के क्षेत्र में भारत को बड़ी सफलता हाथ लगी है. संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के अस्थायी सदस्य के रूप में भारत की उम्मीदवारी का एशिया-प्रशांत क्षेत्र के सभी 55 देशों ने समर्थन किया है. इनमें चीन और पाकिस्तान भी शामिल हैं. संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने एक ट्वीट कर ये जानकारी दी. उन्होंने इन सभी 55 देशों का शुक्रिया भी अदा किया. 15 सदस्यों वाली दुनिया की सबसे ताक़तवर संस्था सुरक्षा परिषद के पांच अस्थायी सदस्यों का कार्यकाल ख़त्म हो रहा है. इससे खाली हुई सीटों को भरने के लिए अगले साल जून में चुनाव होने वाले हैं. नए चुने गए सदस्यों का कार्यकाल 2022 तक रहेगा. दुनिया के 193 सदस्य देशों वाली संयुक्त राष्ट्र महासभा हर साल सुरक्षा परिषद के पांच अस्थायी सदस्यों का दो साल के लिए चुनाव करती है.

असम में राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर से क़रीब एक लाख लोग और बाहर

असम में राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर यानी एनआरसी से क़रीब एक लाख लोग और बाहर हो गए हैं. ये वे लोग हैं जिनके नाम बीते साल एनआरसी के अंतिम मसौदे में शामिल किए गए थे. लेकिन बाद में उन्हें भारतीय नागरिकता के अयोग्य ठहरा दिया गया. यानी इन्हें अब विदेशी नागरिक मान लिया गया है. बीते साल 30 जून को एनआरसी का अंतिम मसौदा जारी किया गया था. इसमें असम में रहने वाले 3.29 करोड़ आवेदकों में से 2.89 करोड़ लोगों के नाम शामिल किए गए थे. यानी लगभग 40 लाख लोगों को तब एनआरसी से बाहर कर दिया गया था. इसके बाद करीब 36 लाख लोगों ने अपने दावे और आपत्तियां दाखिल की थीं.

नरेंद्र मोदी ने झारखंड में भीड़ की पिटाई से युवक की मौत पर चुप्पी तोड़ी, कहा – घटना से आहत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने झारखंड में कुछ दिन पहले भीड़ की पिटाई यानी मॉब लिंचिंग की घटना में एक युवक की मौत पर चुप्पी तो़ड़ी है. प्रधानमंत्री ने कहा कि इस घटना से वे आहत हैं. उनका ये भी कहना था कि दोषियों को सजा होनी चाहिए, लेकिन इसके लिए पूरे राज्य को दोष देना ठीक नहीं है. उन्होंने ये बातें राज्यसभा में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के अभिभाषण प्रस्ताव के बाद धन्यवाद प्रस्ताव पर हुई चर्चा का जवाब देते हुए कहीं. इससे पहले वरिष्ठ कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा था कि झारखंड मॉब लिंचिंग और हिंसा की फैक्ट्री बन गया है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी कहा था कि इस घटना पर सत्ताधारियों की खामोशी हैरान करने वाली है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हिंसा पर राजनीति नहीं होनी चाहिए.

अरविंद कुमार आईबी के नए प्रमुख बने, रॉ की कमान अब सामंत गोयल संभालेंगे

केंद्र सरकार ने खुफिया एजेंसियों इंटेलिजेंस ब्यूरो यानी आईबी और रिसर्च एंड एनालिसिस विंग यानी रॉ के नए प्रमुख नियुक्त किए हैं. अरविंद कुमार को आईबी का प्रमुख बनाया गया है. उधर, सामंत गोयल रॉ के अगले प्रमुख होंगे. ये दोनों ही 1984 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं. अरविंद कुमार, राजीव जैन की जगह लेंगे जबकि सामंत गोयल, अनिल धस्माना से कमान लेंगे. बताया जा रहा है कि दोनों ही अधिकारी 30 जून से पद संभालेंगे. 1990 में जब पंजाब में आतंकवाद अपने चरम पर था तो उसे नियंत्रित करने में सामंत गोयल ने अहम भूमिका निभाई थी. उधर, अरविंद कुमार को कश्मीर संबंधी मामलों का विशेषज्ञ माना जाता है.

तमिलनाडु की छह राज्यसभा सीटों के लिए 18 जुलाई को चुनाव

तमिलनाडु की छह राज्यसभा सीटों के लिए चुनाव आयोग ने चुनाव कार्यक्रम की घोषणा कर दी है. इनके लिए 18 जुलाई को मतदान की तारीख़ तय की गई है. तमिलनाडु की सत्ताधारी पार्टी- एआईएडीएमके के चार राज्यसभा सदस्यों का कार्यकाल 24 जुलाई को पूरा हो रहा है. उधर, राज्य में विपक्षी पार्टी डीएमके की सदस्य कनिमोझी हाल ही में लोकसभा के लिए चुनी जा चुकी हैं इसलिए उनकी सीट खाली हुई है. तमिलनाडु विधानसभा में 235 सदस्य हैं. इसमें दो सीटें खाली हैं. एआईएडीएमके सदस्यों की संख्या 123 है जबकि विपक्षी डीएमके और उसके सहयोगियों के पास 108 सदस्य हैं. इसे देखते हुए माना जा रहा है कि तीन-तीन सीटें सत्ता पक्ष और विपक्ष के पास जा सकती हैं.

देश और दुनिया की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें.