मध्यप्रदेश के इंदौर में भाजपा विधायक आकाश विजयवर्गीय के खिलाफ की गयी पुलिस कार्रवाई के विरोध में एक युवक ने आत्मदाह का प्रयास किया. पीटीआई के मुताबिक इस दौरान एक वरिष्ठ फोटो पत्रकार ने युवक के हाथ से माचिस छीनकर उसके इस प्रयास को विफल कर दिया.

प्रत्यक्षदर्शियों ने न्यूज एजेंसी को बताया कि इंदौर के राजबाड़ा चौराहे पर भाजपा का तीन घंटे लम्बा धरना समाप्त होने ही वाला था, तभी एक युवक ने बोतल से खुद पर केरोसीन उड़ेल लिया. इससे पहले कि वह खुद को आग लगा पाता, वहां मौजूद वरिष्ठ फोटो पत्रकार प्रवीण बरनाले दौड़कर पहुंचे और उसके हाथ से माचिस छीन ली. इस बीच, कुछ अन्य लोग व पुलिस कर्मी भी युवक के पास पहुंचे. उन्होंने युवक के शरीर पर पानी डालकर उसे काबू में किया.

अंग्रेजी के एक दैनिक अखबार में काम करने वाले बरनाले ने पीटीआई भाषा से कहा, ‘मैं किसी व्यक्ति को अपनी आंखों के सामने जलते कैसे देख सकता था. मैंने एक इंसान के रूप में अपना फर्ज निभाया.’

उधर, भाजपा नेताओं ने विजयवर्गीय के पक्ष में आयोजित धरने में आरोप लगाया कि पुलिस ने मध्यप्रदेश में सत्तारूढ़ कांग्रेस के इशारे पर 34 वर्षीय भाजपा विधायक के खिलाफ संगीन धाराओं में अनुचित कार्रवाई की. उन्होंने यह आरोप भी लगाया कि कांग्रेस नेताओं और नगर निगम के अधिकारियों के बीच भ्रष्ट सांठ-गांठ है और जमीन हथियाने वाले गिरोह की मदद के लिये शहरी निकाय द्वारा पक्के मकानों को बेवजह जर्जर बताकर ढहाया जा रहा है.

बीते बुधवार को जर्जर भवन ढहाने की मुहिम के दौरान विवाद के बाद भाजपा विधायक आकाश विजयवर्गीय ने इंदौर नगर निगम के एक भवन निरीक्षक को क्रिकेट के बैट से पीट दिया था. आकाश भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के बेटे हैं और इंदौर-3 विधानसभा सीट से विधायक हैं.