चीन और अमेरिका ने आपसी व्यापार के मोर्चे पर उभरे तनाव को कम करने के संकेत दिए हैं. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और चीन के मुखिया शी जिनपिंग ने आज जापान के ओसाका में जी20 बैठक से इतर बातचीत की. इसके बाद डोनाल्ड ट्रंप ने ऐलान किया कि अमेरिका चीनी निर्यात पर अब नए शुल्क नहीं लगाएगा. उधर, शी जिनपिंग ने भी नर्म रु वक्त के साथ एक तथ्य बिल्कुल नहीं बदला है और वह यह है कि चीन और अमेरिका जब साझेदारी में काम करते हैं तो दोनों को ही फायदा होता है और जब टकराव होता है तो दोनों को ही नुकसान उठाना पड़ता है. डोनाल्ड ट्रंप ने भी कहा कि इस लड़ाई में दोनों देशों की कंपनियों को अरबों डालर की चपत लगी है.

अमेरिका और चीन के बीच कुछ समय से व्यापार युद्ध चल रहा है. बीते महीने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीन को बड़ा झटका देते हुए उसके 200 अरब डॉलर के उत्पादों पर आयात शुल्क ढाई गुना तक बढ़ा दिया था. इसके चलते अमेरिका में चीनी सामान की कीमत में 10 से 25 फीसदी तक का उछाल आ गया. उधर, चीन ने भी अमेरिका के इस कदम का जवाब दिया. उसने 60 अरब डॉलर के अमेरिकी उत्पादों पर 25 फीसदी का आयात शुल्क लगा दिया. चीन ने अमेरिकी खेती की रीढ़ माने जाने वाले सोयाबीन के आयात पर भी अस्थाई रोक लगा दी.