मध्य प्रदेश में भोपाल की एक विशेष अदालत ने आज भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक आकाश विजयवर्गीय की जमानत दे दी है. उन पर राज्य के इंदौर में बिजली कटौती के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन करने और इंदौर नगर निगम के एक कर्मचारी धीरेंद्र सिंह की पिटाई करने के आरोप हैं. भोपाल की इस विशेष अदालत ने इन दोनों मामलों में उनकी जमानत को मंजूरी दी है. इससे पहले इस मामले में राहत पाने के लिए आकाश विजयवर्गीय की तरफ से इंदौर की भी एक कोर्ट में अर्जी दाखिल की गई थी लेकिन वहां उनकी याचिका नामंजूर हो गई थी.

बीते बुधवार को इंदौर नगर निगम के कर्मचारी अतिक्रमण के खिलाफ अभियान चला रहे थे. इसी दौरान आकाश विजयवर्गीय वहां पहुंचे. बताया जाता है कि किसी बात पर कर्मचारियों से उनका विवाद हो गया. फिर उन्होंने आपा खो दिया और क्रिकेट बैट से ही एक कर्मचारी धीरेंद्र सिंह को पीटना शुरू कर दिया. इस दौरान मौके पर मौजूद पुलिसकर्मियों ने उन्हें रोकने की कोशिश की, लेकिन वे नहीं माने. बाद में आकाश विजयवर्गीय ने कहा कि उन्हें इस बात का कोई अफसोस नहीं है. उनका कहना था, ‘यह तो शुरुआत है. हम भ्रष्टाचार और गुंडागर्दी को खत्म करके रहेंगे. हमारा लाइन ऑफ एक्शन है- आवेदन, निवेदन और फिर दनादन.’

वहीं पुलिस ने उस मामले में उनके खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 147 और 148 के अंतर्गत मामला दर्ज किया है. इन धाराओं में उन्होंने कम से कम दो जबकि अधिकतम सात साल कैद की सजा हो सकती है. बताया जा रहा है कि इस घटना में घायल कर्मचारी अभी भी सघन चिकित्सा कक्ष (आईसीयू) में है.