भारतीय क्रिकेट टीम के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन के किक्रेट विश्व कप से बाहर होने के बाद अब चोट लगने के कारण विजय शंकर भी यह टूर्नामेंट नहीं खेल पाएंगे. उनकी जगह बीसीसीआई के चयनकर्ताओं ने मयंक अग्रवाल को टीम में जगह दी है और सोशल मीडिया पर आज इसकी काफी चर्चा है. प्रथम श्रेणी और आईपीएल में खेलने वाले मयंक ने अभी तक कोई भी अंतरराष्ट्रीय वनडे मैच नहीं खेला है और इस दलील के साथ फेसबुक-ट्विटर पर एक बड़े तबके ने उनके चयन पर हैरानी जताई है और सवाल उठाए हैं.

वहीं दूसरी तरफ सोशल मीडिया में यह भी कहा जा रहा है कि मयंक के बजाय टीम में अंबाती रायडू को शामिल किया जाना था. अंबाती चौथे नंबर के बहुत उम्दा बल्लेबाज माने जाते हैं और विश्वकप के पिछले मैचों में भारतीय टीम का मध्यक्रम कमजोर दिखा है. यही वजह है कि लोगों ने टीम में उनका चयन न होने पर काफी निराशा जताई है.

इसी बहस पर सोशल मीडिया में आई कुछ दिलचस्प प्रतिक्रियाएं :

हर्षा भोगले | @bhogleharsha

मयंक अग्रवाल का खेल बीते सालों के दौरान काफी अच्छा रहा और उनका टेस्ट मैचों में भी पदार्पण बढ़िया था. वे दावेदारों में नहीं थे लेकिन उन्हें काफी अहम मौके पर विश्व कप में खेलने का मौका मिला है. यह अच्छा चयन है और मैं उनके लिए खुश हूं. लेकिन इससे यह भी पता चलता है कि बेचारे रायडू रडार (चयनकर्ताओं की नजरों से) से कितनी दूर चले गए हैं.

हर्षित सिंह | @harshits009

विजय शंकर क्रिकेट विश्व कप से बाहर हो गए हैं और उनकी जगह मयंक अग्रवाल को चुना गया है. इसके बाद अंबाती रायडू :

दुदेवा | @kkarrann007

अंबाती रायडू क्रिकेट के लालकृष्ण आडवाणी हैं.

केआर आदित्य | @KRADITHYA1

कुल मिलाकर मयंक अग्रवाल ने वो परीक्षा पास कर ली जिसमें वे शामिल भी नहीं हुए थे!

आकाश चोपड़ा | @cricketaakash

जब ओपनर (शिखर धवन) को चोट लगी तो मध्यक्रम के बल्लेबाज (ऋषभ पंत) को बुलाया गया. जब मध्य क्रम के बल्लेबाज को चोट लगी तो एक ओपनर (मयंक अग्रवाल) को मौका दिया गया है!

असीम साद | @saad_aasim

अंबाती रायडू के साथ यह अन्याय हुआ है. एक बल्लेबाज जिसने एक भी वनडे मैच नहीं खेला उसे उस बल्लेबाज के ऊपर तवज्जो दी गई है जिसका औसत 50 रनों का है. क्या ही कबाड़ा प्रबंधन है. राजनीति सभी जगह है.