मंगलवार को कांग्रेस के दिल्ली स्थित कार्यालय के बाहर पार्टी के एक कार्यकर्ता ने खुद को फांसी लगाकर आत्महत्या करने की कोशिश की. उसका कहना है कि अगर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अपने इस्तीफे का फैसला वापस नहीं लेते तो वह खुद को फांसी लगा लेगा.

इससे पहले इसी साल मई में लोकसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद कांग्रेस के खराब प्रदर्शन को देखते हुए एक बैठक के दौरान राहुल गांधी ने पार्टी अध्यक्ष पद से इस्तीफे की पेशकश की थी. हालांकि तब पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने उनकी उस पेशकश को एकमत से अस्वीकार कर दिया था. इसके अलावा राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के अध्यक्ष शरद पवार सहित राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने भी उन्हें अध्यक्ष पद न छोड़ने के लिए कहा था. हालांकि इस बीच खबरें आई हैं कि राहुल गांधी पार्टी अध्यक्ष का पद छोड़ने पर अड़े हुए हैं और बीते हफ्ते उन्होंने यह भी कहा था कांग्रेस का नया अध्यक्ष चुनने में उनकी कोई भूमिका नहीं होगी.

इधर, बीते हफ्ते ही उनके इस फैसले के विरोध में पार्टी के कई उच्च पदाधिकारियों ने भी अपने पदों से इस्तीफा दे दिया था. इसके अलावा इसी सोमवार को कांग्रेस शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने भी इसी सिलसिले में राहुल गांधी से दिल्ली स्थित उनके आवास पर मुलाकात की थी. उस मुलाकात के बाद राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पत्रकारों से बातचीत में कहा था कि उम्मीद है कि राहुल गांधी अपने इस्तीफे को लेकर निश्चय ही कोई ‘सकारात्मक कदम’ उठाएंगे.