यमन के ईरान समर्थित हूती विद्रोहियों ने सऊदी अरब के एक हवाई अड्डे पर हमला किया है. इस हमले में एक भारतीय सहित नौ लोग घायल हुए हैं.

पीटीआई के मुताबिक मंगलवार को सऊदी अरब के गठबंधन वाली सेना के प्रवक्ता कर्नल तुरकी अल-मलिकी ने यह जानकरी दी है. प्रवक्ता ने एक बयान में कहा, ‘ देश के दक्षिण में स्थित आभा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर हुए एक आतंकवादी हमले में नौ असैन्य घायल हुए हैं जिनमें आठ सऊदी अरब के नागरिक हैं और एक भारतीय नागरिक है. सभी घायलों की स्थिति स्थिर है और अस्पतालों में उनका इलाज चल रहा है.’

कर्नल तुरकी अल-मलिकी ने इस हमले के लिए ईरान समर्थित यमन के हूती विद्रोहियों को जिम्मेदार ठहराया है. हूती संचालित अल-मसीरा टीवी ने भी कहा है कि विद्रोहियों ने कई ड्रोन के जरिए आभा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर लड़ाकू विमानों को निशाना बनाकर एक व्यापक अभियान चलाया है.

आभा हवाई अड्डे के अधिकारियों ने ट्वीट किया कि इस घटना के कारण हवाई अड्डे पर हवाई यातायात प्रभावित नहीं हुआ है.

उधर, संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) ने इस हमले की कड़ी निंदा की है. यूएई विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि यूएई और सऊद अरब की सुरक्षा कड़ी है जिसे कोई भेद नहीं सकता. इस बयान में आगे कहा गया है, ‘(सऊदी) राजशाही की सुरक्षा को कोई भी खतरा यूएई की सुरक्षा और स्थिरता को खतरा माना जायेगा.’

यमन के हूती विद्रोहियों द्वारा बीते दो महीने के अंदर सऊदी अरब के हवाई अड्डे पर किया गया यह तीसरा हमला है. बीते मई में सऊदी अरब के शहर नजरान में स्थित हवाई अड्डे को निशाना बनाया गया था. इसके बाद 12 जून को सऊदी के दक्षिण-पश्चिमी हिस्से में स्थित एक हवाई अड्डे पर एक मिसाइल दागी गयी थी. इस हमले में विभिन्न देशों के 26 नागरिक घायल हुए थे.

हूती विद्रोहियों ने यमन की राजधानी सना सहित देश के एक बड़े हिस्सों पर अपना कब्जा जमा रखा है. यहां सऊदी अरब के नेतृत्व वाली गठबंधन सेना यमन के राष्ट्रपति अबेदरब्बो मंसूर हादी की तरफ से विद्रोहियों के खिलाफ लड़ रही है. यह लड़ाई मार्च 2015 में शुरू हुई थी. यमन की लड़ाई में सऊदी अरब के शामिल होने के बाद से यहां हजारों लोग मारे गए हैं, जबकि लाखों लोगों को बेघर होना पड़ा है.