सोमवार को भाजपा सांसद और अभिनेता सनी देओल ने अपने लोकसभा क्षेत्र गुरदासपुर के लिए एक प्रतिनिधि नियुक्त किया था और आज सोशल मीडिया पर इसके चलते कई लोगों ने उनकी आलोचना की है. सांसदों का अपने क्षेत्रों में प्रतिनिधि नियुक्त करना कोई नई बात नहीं है लेकिन इसके बावजूद माना जाता है कि वे अपने क्षेत्र के लोगों से मिलते-जुलते रहते हैं. चूंकि सनी देओल सेलिब्रिटी हैं इसलिए कई लोगों का कहना है कि उन्हें लोकसभा चुनाव लड़ना ही नहीं था क्योंकि वे क्षेत्र के लोगों से मिलने के लिए वैसे भी समय नहीं निकाल पाएंगे. जाने-माने वकील प्रशांत भूषण ने इस खबर पर ट्वीट किया है, ‘...राजनीतिक दल सेलिब्रिटीज़ की प्रसिद्धि को भुनाने के लिए ही उन्हें चुनाव से ठीक पहले पार्टी में शामिल करते हैं और उम्मीदवार बनाते हैं. लेकिन इन लोगों को जनता के सरोकारों से कोई मतलब नहीं होता... सनी देओल का मामला हमारे लिए एक सबक है. ’

फेसबुक और ट्विटर पर एक बड़े तबके ने इस खबर के हवाले से कहा है कि गुरदासपुर के लोगों के साथ धोखा हुआ है. ट्विटर हैंडल‏ @RoflGandhi_ से सनी देओल पर चुटकी ली गई है, ‘ये तारा सिंह (फिल्म गदर में सनी देओल का किरदार) तो मथुरा दास (फिल्म बॉर्डर का एक किरदार जो युद्ध के ठीक पहले मोर्चा छोड़कर छुट्टी लेता है) निकला.’ यहां इस दलील के साथ भी भाजपा सांसद की आलोचना हो रही है कि उन्होंने गुरप्रीत पलहेरी नाम के जिस व्यक्ति को अपना प्रतिनिधि नियुक्त किया है, वे गुरदासपुर के स्थानीय व्यक्ति नहीं है और खुद फिल्म उद्योग से जुड़े हुए हैं.

इस खबर पर आई कुछ और प्रतिक्रियाएं :

विभा |@vibhatweedy

सनी देओल गुरदासपुर के मतदाताओं से :

चिर्पी सेस | @IndianPrism

सनी देओल ने गुरदासपुर में ‘बैठकों में शामिल होने और जरूरी मसलों को देखने के लिए’ अपना एक ‘प्रतिनिधि’ नियुक्त किया है.
ऊपर कही गई बात का अनुवाद : ‘मैंने चुनाव जीत लिया, मेरा काम खत्म. मैं अगले पांच साल तक यहां अपना चेहरा नहीं दिखाऊंगा... मतदाता चाहे यहां सड़ते रहें... चलिए आपसे दोबारा 2024 के चुनाव में मुलाकात होगी.’

सुनंदा एस सिन्हा | @SunandaSSinha

फिल्मों में हीरो अक्सर ‘बॉडी डबल’ का इस्तेमाल करते हैं. सनी देओल ने अपने लोकसभा क्षेत्र में ‘सांसद डबल’ का इस्तेमाल किया है.

जैनब सिकंदर | @zainabsikander

गुरदासपुर ने उन्हें (सनी देओल को) चुना है. गुरुदासपुर को अब यही मिलेगा. एक गैरहाजिर सांसद ढाई किलो के हाथ में हैंडपंप लिए हुए.

कीर्तीश भट्ट | @Kirtishbhat

क्या सनी देओल पहले सांसद हैं जिन्होंने अपना प्रतिनिधि नियुक्त किया है? मेरे ख्याल से ये कोई नई बात नहीं है. बवाल किस बात का?