‘मैं अब कांग्रेस का मुखिया नहीं हूं.’  

— राहुल गांधी, कांग्रेस के नेता

राहुल गांधी ने यह बात एक चिट्ठी के जरिये कही. इसी चिट्ठी से उन्होंने यह भी कहा, ‘कांग्रेस वर्किंग कमेटी (सीडब्ल्यूसी) को बैठक बुलानी चाहिए और पार्टी का नया अध्यक्ष चुनने में देर नहीं करनी चाहिए.’ इसके साथ ही उनका यह भी कहना था, ‘पार्टी का नया अध्यक्ष चुनने की प्रक्रिया में मैं शामिल नहीं रहूंगा. भविष्य में भी मैं कांग्रेस के साथ जुड़ा रहूंगा और पार्टी के लिए काम करता रहूंगा.’ राहुल गांधी के मुताबिक कांग्रेस का नेतृत्व करने का मौका मिलना उनके लिए बहुत सम्मान की बात है.

‘विज्ञापनों में अश्लीलता पर रोक लगाने के लिए कारगर कदम उठाने की जरूरत है.’  

— प्रकाश जावडेकर, केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री

प्रकाश जावडेकर ने यह बात राज्यसभा में शून्यकाल के दौरान समाजवादी पार्टी (सपा) के नेता रामगोपाल यादव द्वारा विज्ञापनों में अश्लीलता का मुद्दा उठाए जाने पर कही. इस मौके पर प्रकाश जावडेकर ने यह भी कहा, ‘इस संबंध में मिली करीब 6,700 शिकायतों को मौजूदा व्यवस्था के आधार पर निपटाया जा चुका है.’ इससे पहले सपा नेता ने विज्ञापनों में अश्लीलता को ‘नैतिक संकट’ के समान बताया था. साथ ही यह भी कहा था, ‘आज ऐसी स्थिति है कि परिवार के साथ समाचार देखना भी मुश्किल हो गया है क्योंकि ब्रेक के दौरान अश्लील विज्ञापन आ जाते हैं.’


‘नवीनीकरण का समय अब आ गया है.’  

— शशि थरूर, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता

श​शि थरूर ने बात राहुल गांधी के अध्यक्ष पद से दिए इस्तीफे पर एक ट्वीट के जरिये कही. इसी ट्वीट से उन्होंने भारत को अपने संस्थानों को पुनर्जीवित करने के लिए एकजुट होने की जरूरत बताई और कहा कि इस कांग्रेस इस पुनर्जीवन का साधन बनेगी. शशि थरूर ने आगे कहा, ‘कांग्रेस से जुड़े हम सभी लोगों को देश के संविधान और पार्टी के सिद्धांतों एवं मूल्यों के प्रति एक बार फिर गहरी प्रतिबद्धता दिखानी होगी.’


‘भारत-बांग्लादेश के आपसी संबंध कुछ डॉलर के व्यापार से परे हैं.’  

— शेख हसीना, बांग्लादेश की प्रधानमंत्री

शेख हसीना ने यह बात चीन में वर्ल्ड इकॉनॉमिक फोरम को संबोधित करते हुए कही. इसके साथ ही उन्होंने भारत-बांग्लादेश के संबंधों को ‘जैविक’ बताया. साथ ही कहा, ‘चीन के साथ भी बांग्लादेश के अच्छे संबंध हैं. बांग्लादेश में चल रही कई परियोजनाओं में चीन हमारा साझेदार भी है.’ इसी मौके पर जब उनसे यह पूछा गया कि वे भारत और चीन के साथ अपने संबंधों को कैसे साधेंगी? तो इसके जवाब में शेख हसीना का कहना था कि उनकी सरकार विदेश संबंधों में संतुलन बनाकर चलती है.


‘रोहित शर्मा अच्छी तरह जानते हैं कि कब उन्हें आक्रामक रुख अपनाना है और कब शांत रहकर पारी को आगे बढ़ाना है.’  

— कृष्णमाचारी श्रीकांत, पूर्व क्रिकेटर

कृष्णमाचारी श्रीकांत ने यह बात क्रिकेट विश्व कप में रोहित शर्मा की बांग्लादेश के खिलाफ खेली गई शतकीय पारी को देखते हुए कही. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा, ‘बांग्लादेश के खिलाफ वे शुरू से ही आक्रामक थे. लेकिन इसी प्रतियोगिता में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ जड़ा गया उनका शतक इसके विपरीत था.’ कृष्णमाचारी श्रीकांत ने आगे कहा, ‘ये दोनों ही अलग तरह की पारियां थीं लेकिन दोनों ही एक समान रूप से अहम भी थीं.’