अंतरराष्ट्रीय दबाव के चलते पाकिस्तान ने आखिरकार मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड और जमात-उद-दावा के सरगना हाफिज सईद और उसके 12 सहयोगियों के खिलाफ मामले दर्ज किए हैं. खबर के मुताबिक हाफिज सईद और उसके सहयोगियों को आतंकवाद फैलाने के लिए फंड इकट्ठा करने के आरोप के तहत 23 मामलों में आरोपित बनाया गया है. प्राप्त जानकारी के मुताबिक लाहौर, गुजरांवाला और मुल्तान में हाफिज और जमात-उद-दावा के अन्य नेताओं पर मामले दर्ज किए गए हैं.

एनडीटीवी के मुताबिक पाकिस्तान के आतंक-निरोधी विभाग (सीटीडी) ने कहा कि कि हाफिज सईद और अन्य ने पांच ट्रस्टों की मदद से संपत्ति बनाई और फिर उसका इस्तेमाल आतंकी फंडिंग के रूप में किया. सीटीडी ने इस संबंध में अपनी जांच शुरू कर दी है. उसने एक बयान जारी कर कहा है, ‘उन्होंने आतंकी फंडिंग के लिए ट्रस्ट की संपत्ति का इस्तेमाल किया. ज्यादा फंडिंग के लिए भी उन्होंने ट्रस्ट की संपत्ति का इस्तेमाल किया. उनके खिलाफ आतंकवाद-निरोधी अदालतों में मामले चलाए जाएंगे.’