वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण इस समय संसद में बजट पेश कर रही हैं. वे स्वतंत्र भारत के इतिहास में केंद्रीय बजट पेश करने वाली दूसरी महिला बन गई हैं. उनसे पहले पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने 1970 में बजट पेश किया था. आज पेश किए जा रहे बजट में निर्मला सीतारमण ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार की उपलब्धियां गिनाईं, साथ ही भविष्य की योजनाओं के बारे में बताया.

बजट 2019 की बड़ी योजनाएं

- ‘प्रधानमंत्री कर्म योगी मान धन योजना’ के तहत करीब तीन करोड़ खुदरा व्यापारियों और दुकानदारों के लिए पेंशन योजना.

- देश को 5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने के लिए बुनियादी ढांचे और डिजिटल अर्थव्यवस्था में भारी निवेश किया जाएगा.

- रोजगार सृजन पर जोर देने की योजना शुरू की जाएगी.

- सरकार विमानन, मीडिया और बीमा क्षेत्र में एफडीआई सीमा बढ़ाने के मामले में संबंधित पक्षों के साथ बातचीत के बाद फैसला करेगी. बीमा मध्यस्थ (इंटरमीडियेटरी) क्षेत्र में 100 प्रतिशत एफडीआई की अनुमति दी जाएगी.’

- राष्ट्रीय राजमार्ग कार्यक्रम का व्यापक रूप से पुनर्गठन किया जाएगा ताकि राष्ट्रीय राजमार्ग ग्रिड का सृजन सुनिश्चित हो सके.

- पिछले पांच सालों में 1.5 करोड़ गरीब परिवारों को मकान उपलब्ध कराए गए. 2022 तक और 1.95 करोड़ गरीब परिवारों को प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत घर उपलब्ध कराए जाएंगे.

बजट 2019 की बड़ी बातें

- भारतीय अर्थव्यवस्था इस वित्त वर्ष में 3,000 अरब डॉलर की हो जाएगी.

- दुनियाभर में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) में पिछले तीन सालों के दौरान गिरावट आने के बावजूद भारत में 2018-19 में एफडीआई छह प्रतिशत बढ़कर 64 अरब डालर से अधिक रहा.

- सरकार भारत को एफडीआई के लिए आकर्षक स्थान बनाने के प्रयास जारी रखेगी.

- भारतमाला योजना के दूसरे चरण में राज्यों को राज्यस्तरीय सड़कों के विकास के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा.

- भारतमाला, सागरमाला और उड़ान जैसी योजनाएं ग्रामीण-शहरी अंतर को पाट रही हैं और परिवहन ढांचागत सुविधा में सुधार ला रही हैं.

- सरकार विमानन क्षेत्र में रखरखाव, मरम्मत, जीर्णोद्धार (रेस्टोरेशन) को बढ़ावा देने के लिए उपयुक्त नीति तैयार करेगी.

- खाद्य सुरक्षा पर खर्च का स्तर 2014-19 के दौरान पिछले पांच साल के दौरान लगभग दोगुना हुआ.