निर्मला सीतारमण ने बजट पेश किया, ग्रामीण क्षेत्र पर खास ध्यान, अमीरों पर और ज़्यादा टैक्स

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला बजट पेश किया. इस दौरान उन्होंने सरकार के पहले कार्यकाल की तारीफ करते हुए उसकी भविष्य की योजनाओं का खाका खींचा. बजट में ग्रामीण क्षेत्र पर खास ज़ोर दिया गया है. वित्त मंत्री ने कहा कि 2024 तक गांव के हर घर तक पानी पहुंचा दिया जाएगा. निर्मला सीतारमण ने ये भी बताया कि सबको घर देने के तहत गांवों में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत अगले तीन साल में करीब दो करोड़ मकान मुहैया कराये जाएंगे. उन्होंने कहा कि अब तक 5.6 लाख गांव खुले में शौच से मुक्त हो गए हैं और इस साल गांधी जयंती यानी दो अक्टूबर को भारत खुले में शौच से मुक्त हो जाएगा. वित्त मंत्री ने ये भी बताया कि ग्राम सड़क योजना का 87 फीसदी लक्ष्य पूरा हो चुका है. इसके अलावा बजट में दो से पांच करोड़ रुपये की सालाना आय वाले लोगों पर तीन फ़ीसदी अतिरिक्त कर लगाया गया है. पांच करोड़ रुपये से अधिक आय वालों पर सात फ़ीसदी अतिरिक्त कर लगेगा. पांच लाख रुपये तक की आय वालों के लिए टैक्स छूट को बरकरार रखा गया है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बजट की तारीफ की, कहा – बजट से गरीब को बल, युवा को बेहतर कल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आम बजट की तारीफ की है. उन्होंने इसे देश को समृद्ध बनाने वाला बताया है. प्रधानमंत्री ने कहा कि इस बजट से किसानों से लेकर युवाओं और महिलाओं तक सबको लाभ मिलेगा. उनका कहना था कि बजट से गरीब को बल और युवा को बेहतर कल मिलेगा. प्रधानमंत्री ने कहा कि इस बजट से पांच लाख करोड़ डॉलर की अर्थव्यवस्था के सपने को पूरा करने की दिशा मिलेगी. उधर, बजट पर और नेताओं की भी प्रतिक्रियाएं आई हैं. गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि इस बजट ने एक समावेशी और प्रगतिशील देश की नींव डाली है. सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी का कहना था कि नए भारत के निर्माण के लिए वित्त मंत्री ने बुनिादी ढांचे को सबसे ज्यादा प्राथमिकता दी है. उधर, कांग्रेस ने बजट को निराशाजनक बताया है. पार्टी प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि इसमें गांव, गरीब और किसानों को हाशिये पर डाल दिया गया है.

ममता बनर्जी का मोदी सरकार पर निशाना, उस पर मदरसों को लेकर संसद में गलत रिपोर्ट पेश करने का आरोप लगाया

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का मोदी सरकार के साथ टकराव जारी है. ताज़ा मामले में उन्होंने भाजपा के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार पर ‘राजनीतिक एजेंडे’ के तहत संसद में गलत रिपोर्ट पेश करने का आरोप लगाया है. ये रिपोर्ट राज्य के दो ज़िलों में मदरसों की कट्टरपंथी गतिविधियों को लेकर थी. ममता बनर्जी ने कहा कि इस मामले पर राज्य द्वारा दी गई रिपोर्ट पेश करने के बजाय केंद्र ने संसद में अपनी ही रिपोर्ट पेश की है. इसी हफ्ते गृह मंत्रालय की तरफ से लोकसभा में एक रिपोर्ट पेश की गई थी. इसमें दावा किया गया था कि पश्चिम बंगाल के दो जिलों में मदरसों के छात्रों को कट्टरपंथ की तरफ धकेला जा रहा है. ममता बनर्जी के मुताबिक उनकी सरकार ने अपनी रिपोर्ट में ऐसा कुछ नहीं कहा था.

एमडीएमके नेता वाइको राजद्रोह मामले में दोषी करार, एक साल जेल की सज़ा

एमडीएमके प्रमुख वाइको को राजद्रोह के एक मामले में दोषी ठहराया गया है. चेन्नई की एक अदालत ने आज उन्हें एक साल जेल की सजा सुनाई है. उन पर 10 हजार रु का जुर्माना भी लगाया गया है. ये मामला करीब एक दशक पुराना है. 2009 में वाइको ने अपनी एक किताब के विमोचन के दौरान एक भाषण दिया था. इस दौरान उन्होंने कहा था कि अगर लिट्टे के खिलाफ चल रहा सैन्य अभियान नहीं रुका तो भारत के टुकड़े हो जाएंगे. इसके बाद तत्कालीन डीएमके सरकार ने उन पर राजद्रोह का मुकदमा दर्ज कराया था. फिलहाल फैसले के खिलाफ एक याचिका दायर कर दिए जाने के चलते वाइको की सज़ा पर एक महीने की रोक लग गई है.

डोनाल्ड ट्रंप और इमरान खान की पहली मुलाकात 22 जुलाई को होगी

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बीच पहली मुलाकात की तारीख तय हो गई है. ये दोनों नेता 22 जुलाई को अमेरिका में मिलेंगे. इस दौरान ज़ोर द्विपक्षीय संबंधों में नयी जान फूंकने पर रहेगा. अमेरिका और पाकिस्तान के रिश्ते बीते कुछ समय से ठीक नहीं चल रहे हैं. बीते साल डोनाल्ड ट्रंप ने पाकिस्तान पर आरोप लगाया था कि उसने आतंक से लड़ाई के नाम पर अमेरिका को धोखा दिया. इसके बाद उन्होंने अपने इस करीबी सहयोगी को दी जाने वाली सैन्य सहायता भी रद्द कर दी थी. उधर, चुनाव से पहले इमरान खान ने कहा था कि अगर वे प्रधानमंत्री बने तो डोनाल्ड ट्रंप से उनकी मुलाकात कड़वा घूंट पीने जैसी होगी.

देश और दुनिया की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें.