‘बजट में आम लोगों की आवाज अनसुनी की गई है.’  

— पी चिदंबरम, पूर्व वित्त मंत्री

पी चिदंबरम ने यह बात पत्रकारों के साथ बातचीत के दौरान कही. इस मौके पर उन्होंने यह भी कहा, ‘बजट भाषण में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने यह नहीं बताया कि सरकार को कितना राजस्व मिला है और उसका कुल खर्च कितना है. साथ ही रक्षा के अलावा मनरेगा जैसी योजनाओं के लिए सरकार कितनी राशि आवंटित करेगी इसके आंकड़ों पर भी उन्होंने कुछ नहीं कहा. उनका ऐसा करना देश को धोखा देने जैसा है.’ इसके साथ ही पी चिदंबरम ने सवालिया लहजे कहा, ‘वित्त मंत्री ने आधार कार्ड से भी टैक्स रिटर्न दाखिल किए जा सकने की घोषणा की है. अगर सरकार को ऐसा ही करना था तो उसे पैन और आधार कार्ड को लिंक करवाने की भला क्या जरूरत थी.’

‘वित्त वर्ष 2019-20 के बजट से गरीबों को बल तो युवाओं को बेहतर कल मिलेगा.’  

— नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री

नरेंद्र मोदी ने यह बात आम बजट पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कही. इसके साथ ही उन्होंने इसे ‘भविष्य को ध्यान में रखकर बनाया गया बजट’ भी बताया. नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘यह बजट 21वीं सदी के भारत के सपने को पूरा करने वाला है. साथ ही इससे पांच लाख करोड़ डॉलर की अर्थव्यवस्था के सपने को पूरा करने की दिशा मिलेगी.’


‘आम बजट के प्रस्तावों से निजी क्षेत्र और पूंजीपतियों को ही बढ़ावा मिलेगा.’  

— मायावती, बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख

मायावती ने यह बात एक ट्वीट के जरिये कही. इसी ट्वीट से उन्होंने यह भी कहा, ‘इससे दलितों और पिछड़ों के आरक्षण की ही नहीं बल्कि महंगाई, गरीबी, बेरोजगारी के साथ-साथ किसानों की समस्या और जटिल होगी.’ इसके साथ ही मायावती का यह भी कहना था, ‘भाजपा सरकार ने बजट को हर मामले में और हर स्तर पर लुभावना बनाने की पूरी कोशिश की है. लेकिन देखना है कि यह बजट जमीनी हकीकत पर आम जनता के लिए कितना लाभदायक सिद्ध होता है.’


‘भाजपा सरकार ने मदरसों को लेकर संसद में गलत रिपोर्ट पेश की है.’  

— ममता बनर्जी, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री

ममता बनर्जी ने यह बात पश्चिम बंगाल की विधानसभा में राज्य के दो जिलों में मदरसों का इस्तेमाल छात्रों को कट्टरपंथी बनाने को लेकर केंद्र द्वारा जारी रिपोर्ट पर कही. इस मौके पर उन्होंने यह भी कहा, ‘इस मामले को लेकर राज्य सरकार ने केंद्र को रिपोर्ट सौंपी थी. लेकिन केंद्र ने पश्चिम बंगाल सरकार के बजाय संसद में अपनी ही रिपोर्ट पेश कर दी.’ इसके साथ ही ममता बनर्जी ने यह भी कहा, ‘भाजपा की अगुवाई वाली केंद्र सरकार हर चीज का राजनीतिकरण करने की कोशिश कर रही है.’


‘भारतीय वायु सेना को पहला रफाल विमान अब से ठीक दो महीने में सौंप दिया जाएगा.’

— अलेक्जेंडर ज़ीगलर, फ्रांस के राजदूत

अलेक्जेंडर ज़ीगलर ने यह बात एक कार्यक्रम के दौरान कही. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा, ‘शेष 36 विमानों को भी अगले दो वर्षों में सौंप दिया जाएगा.’ इस मौके पर अलेक्जेंडर ज़ीगलर ने भारत-फ्रांस की आपसी साझेदारी की सराहना भी की. साथ ही कहा, ‘ भारतीय वायुसेना के पास फ्रांसीसी प्रौद्योगिकी और भारत-फ्रांस प्रौद्योगिकी वाले विमान हैं क्योंकि दोनों देशों ने बड़ी मात्रा में प्रौद्योगिकी का विकास साथ मिलकर किया है.’