क्रिकेट विश्व कप प्रतियोगिता के 44वें मैच में श्रीलंका ने भारत के सामने जीत के लिए 265 रनों का लक्ष्य रखा है. लीड्स के हेडिंग्ले के मैदान पर खेले जा रहे इस मैच में श्रीलंका के कप्तान दिमुथ करुणारत्ने ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया था. हालांकि खराब शुरुआत के बावजूद श्रीलंकाई बल्लेबाज सात विकेट गंवाते हुए अपनी टीम का स्कोर 264 तक ले जाने में सफल रहे.

इससे पहले श्रीलंका की टीम पारी के 12वें ओवर तक अपने शुरुआती चार विकेट महज 55 के योग पर गंवा चुका था. उस वक्त ऐसा लग रहा था कि य​ह एशियाई टीम इस मैच में सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचने में भी कामयाब नहीं हो पाएगी. लेकिन एंजेलो मैथ्यूज (113) और लाहिरू थिरिमाने (53) की जोड़ी टीम को संकट से निकालने में सफल रही. वहीं धनंजय डिसिल्वा ने 36 गेंदों पर अविजित रहते हुए 29 रन बनाए.

गेंदबाजी के लिहाज से जसप्रीत बुमराह सबसे सफल और किफायती गेंदबाज साबित हुए. अपने दस ओवरों में 37 रन देकर उन्होंने तीन विकेट हासिल किए. वहीं भुवनेश्वर कुमार, रवींद्र जड़ेजा, हार्दिक पंड्या और कुलदीप यादव के खाते में एक-एक सफलता आई. श्रीलंका के चार शुरुआती बल्लेबाजों को पैवेलियन की राह दिखाने में महेंद्र सिंह धोनी की भी अहम भूमिका रही. विकेटों के पीछे तीन कैच लपकने के अलावा उन्होंने कुसल मेंडिस को स्टंपिंग करके आउट कराया.

इधर, शनिवार को ही ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका के बीच इस विश्व कप प्रतियोगिता का आखिरी लीग मैच भी खेला जा रहा है. इंग्लैंड के ओल्ड ट्रैफर्ड के मैदान पर हो रहे इस मैच में दक्षिण अफ्रीका ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया है. इस मैच में दक्षिण अफ्रीका ने जहां हाशिम अमला की जगह पर तबरेज शम्सी को शामिल किया है तो वहीं ऑस्ट्रेलिया की टीम बिना किसी बदलाव के मैदान पर उतरी है.