कांग्रेस के नेता राहुल गांधी आगामी दस जुलाई को अमेठी जाएंगे. लोकसभा के पिछले चुनाव में उत्तर प्रदेश के इस संसदीय क्षेत्र में मिली हार के बाद यह उनका पहला अमेठी दौरा भी होगा. खबरों के मुताबिक अपने इस एक दिवसीय दौरे में राहुल गांधी स्थानीय लोगों के अलावा पार्टी कार्यकर्ताओं से भी मुलाकात करेंगे. साथ ही बीते चुनाव में अपनी इस परंपरागत सीट पर हुई हार के कारणों की समीक्षा भी करेंगे.

लोकसभा के पिछले चुनाव में राहुल गांधी ने अमेठी के अलावा केरल की वायनाड सीट से किस्मत आजमाई थी. वायनाड से जहां वह सांसद चुने गए थे तो वहीं अमेठी में उन्हें भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की नेता स्मृति ईरानी से करीब 55 हजार वोटों के अंतर से हार का सामना करना पड़ा था. वहीं लोकसभा के इस चुनाव में कांग्रेस का अपना प्रदर्शन भी बेहद निराशाजनक रहा था. कुल 543 संसदसीय सीटों में से उसे सिर्फ 52 पर ही जीत मिल पाई थी.

चुनाव में मिली कारारी शिकस्त के मद्देनजर राहुल गांधी ने मई के महीने में पार्टी की एक बैठक के दौरान अध्यक्ष पद छाड़ने की पेशकश की थी. इसके बाद बीते हफ्ते एक ट्वीट के जरिये उन्होंने औपचारिक तौर पर यह पद छोड़ने का ऐलान भी किया था. तब उन्होंने कांग्रेस वर्किंग कमेटी (सीडब्ल्यूसी) से जल्दी ही पार्टी का नया अध्यक्ष चुनने की अपील भी की थी. हालांकि सीडब्ल्यूसी ने औपचारिक तौर पर राहुल गांधी का इस्तीफा मंजूर नहीं किया है.