भारतीय कप्तान विराट कोहली ने सोमवार को महेंद्र सिंह धोनी की जमकर तारीफ की. उन्होंने धोनी को एक ऐसा संरक्षक बताया जो ज्यादा मुखर नहीं है और टीम के दूसरे खिलाड़ियों के मार्गदर्शन को हमेशा तैयार रहता है.

न्यूजीलैंड के खिलाफ मंगलवार को खेले जाने वाले सेमीफाइनल मुकाबले से पहले धोनी के बारे में पूछे गये सवाल पर विराट कोहली ने कहा, ‘महेंद्र सिंह धोनी के लिए मेरी आंखों में बेहद सम्मान है, वह मेरी नजरों में हमेशा बहुत ऊंचे रहेंगे क्योंकि मुझे पता है कि कप्तानी से हटने के बाद बदलाव करना कितना मुश्किल होता है.’

उन्होंने कहा, ‘कई वर्षों तक टीम की कप्तानी करने के बाद टीम में सिर्फ खिलाड़ी के तौर पर खेलना और किसी चीज पर अपना विचार ना थोपना आसान नहीं होता और यही धोनी की महानता है. वे ऐसे संरक्षक हैं जो ज्यादा मुखर नही हैं.’

महेंद्र सिंह धोनी ने 2014 में टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कह दिया था जबकि उन्होंने जनवरी 2017 में एकदिवसीय टीम की कप्तानी छोड़ दी थी.

भारतीय कप्तान ने अपने और धोनी के संबंधों पर कहा, ‘जब भी मैं उनसे कुछ पूछता हूं, वह सलाह देते है, कभी पीछे नहीं हटते. ऐसे में वह शानदार हैं और मुझे खुशी है कि मैंने उनके साथ इतने वर्षों तक खेला है. एक कप्तान के तौर पर धोनी की सलाह मेरे लिए खरे सोने की तरह है.’

विराट कोहली के मुताबिक उनके और रोहित शर्मा जैसे खिलाड़ियों में धोनी को लेकर कृतज्ञता का भाव है क्योंकि करियर के शुरूआती दौर में विफलताओं के बाद भी कप्तान के तौर पर धोनी ने उनका साथ दिया था.

विराट कोहली से जब पूछा गया कि भारत अगर विश्व चैम्पियन बनता है तो क्या धोनी को भी 2011 विश्व कप में सचिन तेंदुलकर जैसी विदाई दी जाएगी तो उन्होंने कहा, ‘2011 में मैंने पहले से कुछ तैयार नहीं किया था और इस बार भी पहले से कुछ करने की योजना नहीं हैं.’