कर्नाटक में सियासी उथल-पुथल की खबर आज भी अखबारों के पहले पन्ने पर है. सोमवार को एक निर्दलीय विधायक के इस्तीफा देने के साथ सत्ताधारी जेडीएस-कांग्रेस गठबंधन के 14 विधायक कुमारस्वामी सरकार का साथ छोड़ चुके हैं. वहीं, गठबंधन सरकार में शामिल सभी 21 मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया. मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी का कहना है कि जल्द से जल्द मंत्रिपरिषद का पुनर्गठन किया जाएगा. बताया जाता है कि यह कवायद जेडीएस और कांग्रेस के बागी विधायकों को सरकार में शामिल करने के लिए की गई है.

उधर, कर्नाटक में विपक्षी भाजपा ने एचडी कुमारस्वामी से इस्तीफे की मांग की है. पार्टी नेता शोभा करंदलाजे ने कहा है कि मुख्यमंत्री को फौरन कुर्सी छोड़नी चाहिए क्योंकि उनकी सरकार अल्पमत में है. वहीं, पार्टी की कर्नाटक इकाई के प्रमुख बीएस येदियुरप्पा ने कहा है कि नए चुनाव कराने का सवाल ही नहीं है.

कानून मंत्री ने सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीशों को कड़वे शब्दों के इस्तेमाल से परहेज करने की सलाह दी

कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीशों को कड़वे शब्दों के इस्तेमाल से परहेज करने की सलाह दी है. दैनिक जागरण की खबर के मुताबिक वे सोमवार को राज्यसभा में आधार मामले में अल्पमत के फैसले में इस्तेमाल किए गए ‘संवैधानिक धोखाधड़ी’ जैसी टिप्पणियों का जिक्र कर रहे थे. ‘आधार और अन्य विधियां (संशोधन) विधेयक-2019’ पर चर्चा का जवाब देते हुए रविशंकर प्रसाद ने कहा कि सरकार सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीशों का सम्मान करती है और उन्हें भी ऐसा ही करना चाहिए. उन्होंने आगे कहा, ‘यह अल्पमत का उल्लेखनीय फैसला है.. मैं पूरी विनम्रता से यह सदन में कहना चाहता हूं. हम सुप्रीम कोर्ट के जजों का सम्मान करते हैं, लेकिन संवैधानिक धोखाधड़ी जैसे शब्दों का इस्तेमाल नहीं होना चाहिए.’ बताया जाता है कि संसद में आधार विधेयक को धन विधेयक के रूप में पारित किए जाने के मामले में न्यायाधीश चंद्रचूड़ ने अल्पमत का फैसला सुनाया था.

तेलंगाना : महिला वन अधिकारी सी अनीता सहित अन्य 15 पर एससी-एसटी कानून के तहत मामला दर्ज

तेलंगाना की महिला वन अधिकारी सी अनीता सहित अन्य 15 पर एससी-एसटी कानून के तहत मामला दर्ज किया गया है. नवभारत टाइम्स की खबर के मुताबिक एक स्थानीय महिला ने इनके खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है. इस महिला का आरोप है कि अनीता और अन्य वनकर्मियों ने जाति का नाम लेकर उनके साथ गालीगलौज की है. इससे पहले बीते महीने अनीता के साथ सरकारी भूमि पर पौधारोपण की कोशिश के दौरान स्थानीय लोगों ने बेरहमी से मारपीट की थी. इसके बाद 30 जून को पुलिस ने इसमें शामिल टीआरएस विधायक कोनेरू कोनप्पा के भाई कृष्णा और उनके समर्थकों को गिरफ्तार किया था.

दिल्ली-लखनऊ तेजस एक्सप्रेस को निजी हाथों में सौंपने का फैसला

भारतीय रेलवे ने दिल्ली-लखनऊ तेजस एक्सप्रेस को निजी हाथों में सौंपने का फैसला किया है. ऐसा कर्मचारी संगठनों के विरोध के बावजूद किया गया है. अमर उजाला में प्रकाशित खबर के मुताबिक तेजस एक्सप्रेस निजी हाथों में जाने वाली देश की पहली ट्रेन होगी. बताया जाता है कि इसके लिए बोली प्रक्रिया के बाद इसे निजी संचालक को सौंप दिया जाएगा. वहीं, रेलवे बोर्ड निजीकरण के लिए अन्य मार्गों पर भी विचार कर रहा है.

अखबारी कागजों पर लगाया गया 10 फीसदी सीमा शुल्क वापस लेने की मांग

इंडियन न्यूजपेपर सोसायटी (आईएनएस) ने केंद्र सरकार से अखबारी कागजों पर लगाया गया 10 फीसदी सीमा शुल्क वापस लेने की मांग की है. राजस्थान पत्रिका के मुताबिक इन कागजों में प्रिटिंग में काम आने वाला अनकोटेड पेपर और पत्रिकाओं के प्रकाशन में काम आने वाला लाइट वेट कोटेड पेपर शामिल है. आईएनएस का कहना है कि अखबार और पत्रिकाओं में विज्ञापन से आने वाला राजस्व घट रहा है जबकि प्रकाशन की लागत बढ़ रही है. साथ ही, सोसायटी ने इस बात की भी आशंका जाहिर की है कि अखबारी कागज महंगा होने से कई छोटे और मंझोले अखबार बंद हो सकते हैं. बताया जाता है कि देश में न्यूज प्रिंट की कुल खपत 25 लाख टन है.

एक हफ्ते के भीतर धाविका हिमा दास ने दो स्वर्ण पदकों पर कब्जा किया

भारत की स्टार फर्राटा धाविका हिमा दास ने पोलैंड में कुटनो एथलेटिक्स मीट में महिलाओं की 200 मीटर दौड़ स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीत लिया है. हिन्दुस्तान में छपी खबर के मुताबिक उन्होंने इसके लिए 23.97 सेकेंड का वक्त लिया. वहीं, इस खेल में भारत की ही वीके विस्मया को कांस्य पदक हासिल हुआ है. बीते एक हफ्ते में उनका यह दूसरा स्वर्ण पदक है. इससे पहले हिमा दास ने पोलैंड में ही पोजनान एथलेटिक्स में पहला पायदान हासिल किया था. वहीं, पुरुष वर्ग में मोहम्मद अनस ने 21.18 सेकेंड का समय निकाल 200 मीटर की दौड़ में स्वर्ण पदक पर कब्जा किया.