अयोध्या विवाद के एक हिंदू पक्षकार गोपाल सिंह विशारद ने सुप्रीम कोर्ट से इस मामले की जल्द सुनवाई करने का आग्रह किया है. खबरों के मुताबिक हिंदू पक्षकार की तरफ से उनके वकील पीएस नरसिम्हा ने यह मुद्दा सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगाई की अदालत के समक्ष उठाया. साथ ही तर्क दिया कि इस मामले के समाधान के लिए गठित मध्यस्थता समिति के पहले दौर की बैठकों में कोई खास प्रगति नहीं हुई है. ऐसे में सुप्रीम कोर्ट को सुनवाई करके राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद का जल्द निपटारा करना चाहिए. वहीं रंजन गोगोई की अगुवाई वाली तीन जजों की बेंच ने मुद्दे को सुनने के बाद उनसे इस पर एक अर्जी दाखिल करने को कहा है.

इससे पहले अयोध्या के राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद के शांतिपूर्ण समाधान के लिए सुप्रीम कोर्ट ने इसी साल मार्च में एक मध्यस्थता समिति गठित की थी. सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जस्टिस एफएम कलीफुल्ला की अगुवाई वाली इस समिति में वरिष्ठ अधिवक्ता श्रीराम पंचू और आध्यात्मिक गुरु श्रीश्री रविशंकर भी शामिल हैं. इस समिति ने बीती मई में सुप्रीम कोर्ट को अपनी एक रिपोर्ट सौंपी थी. साथ ही मामले के समाधान के लिए कुछ और समय भी मांगा था. इस पर सुप्रीम कोर्ट ने इस समिति को आगामी 15 अगस्त तक का वक्त दे दिया था.