मुंबई उत्तर सीट से कांग्रेस के टिकट पर हाल में लोकसभा चुनाव हारने वालीं अभिनेत्री उर्मिला मातोंडकर ने मंगलवार को अपना पत्र लीक होने को दुर्भाग्यपूर्ण बताया. इस पत्र में उर्मिला मातोंडकर ने वरिष्ठ पार्टी नेता संजय निरूपम के करीबी सहयोगियों की आलोचना की थी.

यह पत्र लोकसभा चुनावों के परिणाम आने से एक सप्ताह पहले 16 मई का है जो मुंबई कांग्रेस के तत्कालीन प्रमुख मिलिंद देवड़ा को भेजा गया था. पार्टी नेतृत्व को भेजे पत्र में, उर्मिला मातोंडकर ने प्रचार अभियान के दौरान मुंबई के पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष निरूपम के करीबी सहयोगियों संदेश कोंडविल्कर और भूषण पाटिल के आचरण की आलोचना की थी. उर्मिला ने अपने बयान में कहा, ‘यह अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है कि गुप्त संवाद वाला गोपनीय पत्र सार्वजनिक कर दिया गया.’ उन्होंने स्वीकार किया कि हर राजनीतिक दल में ऐसे विवाद होते हैं जिन्हें सुलझाने की जरूरत होती है. उन्होंने कहा कि वह किसी निजी एजेंडे के बिना कांग्रेस में शामिल हुई हैं और उनका लक्ष्य देश की सेवा करना है.

मिलिंद देवड़ा ने चुनावों में पार्टी की हार की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए बीते रविवार को पद से इस्तीफा दे दिया था. इस पत्र के सार्वजनिक होने के बाद संजय निरूपम ने परोक्ष हमले में उर्मिला का पत्र सार्वजनिक करने के लिए मिलिंद देवड़ा को जिम्मेदार ठहराया था.