सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने भाजपा पर कांग्रेस के विधायकों को तोड़ने के आरोप को बेबुनियाद बताया है. पीटीआई के मुताबिक गुरुवार को उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस अपने राजनीतिक दिवालियापन पर है. उनसे (कांग्रेस नेतृत्व) पार्टी संभल नहीं रही है और उनके विधायकों को वहां उनका भविष्य नजर नहीं आता. इसलिये लोग पार्टी छोड़ रहे हैं और कांग्रेस हमें जिम्मेदार बता रही है.’

इससे पहले राज्यसभा में बजट पर चर्चा शुरू होने पर कांग्रेस के सदस्यों ने भाजपा पर कर्नाटक और गोवा में उनकी पार्टी के विधायकों को तोड़ने का आरोप लगाते हुये हंगामा किया. प्रकाश जावड़ेकर ने संसद भवन परिसर में इस पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुये कहा कि कांग्रेस में मची भगदड़ के लिये कांग्रेस स्वयं जिम्मेदार है. उनका कहना था, ‘इनकी पार्टी (कांग्रेस) का पिछले 40 दिन से कोई अध्यक्ष नहीं है. इसके लिये भाजपा कैसे जिम्मेदार है? कांग्रेस नेतृत्व का अपने नेताओं से कोई संवाद नहीं है, इसलिये पार्टी बिखर रही है.’

प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि भाजपा को कोसने से कांग्रेस की स्थिति नहीं सुधरेगी और पार्टी को आत्मावलोकन करने की जरूरत है. उन्होंने उच्च सदन की बैठक निरंतर बाधित करने के लिये कांग्रेस की भर्त्सना करते हुये कहा कि कांग्रेस को अपनी नकारात्मक सोच बदलनी चाहिए.

कर्नाटक और गोवा में बड़ी संख्या में कांग्रेस विधायकों की टूट के मसले पर दोनों सदनों में लगातार हंगामा हो रहा है. कर्नाटक के बाद गोवा में भी कांग्रेस बड़ी टूट का शिकार हो गई है जहां उसके 15 में से 10 विधायक भाजपा में शामिल हो गए हैं. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी द्वारा संसद भवन परिसर में धरना देकर केंद्र सरकार पर लोकतंत्र की हत्या करने के आरोप लगाने के जवाब में प्रकाश जावड़ेकर ने कहा, ‘केंद्र सरकार या भाजपा कुछ नहीं कर रही है, आपसे (सोनिया, राहुल) पार्टी संभल नहीं रही है, इसमें भाजपा का क्या दोष है?’