पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को तृणमूल कांग्रेस के सभी विधायकों के साथ एक बैठक की. पीटीआई के मुताबिक नेताओं के पार्टी छोड़कर जाने और लोकसभा चुनाव में खराब प्रदर्शन से परेशान ममता बनर्जी ने इसमें विधायकों से कहा कि वे और विनम्र होकर जनता से मिलें और अपनी पिछली गलतियों के लिए उससे माफी मांगें.

लोकसभा चुनाव में पार्टी के खराब प्रदर्शन के बाद यह पहली बैठक थी. तृणमूल के एक वरिष्ठ नेता के मुताबिक बैठक में ममता बनर्जी ने विश्वास जताया कि 2021 विधानसभा चुनाव में पार्टी का प्रदर्शन अच्छा रहेगा. उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि वे पुराने लोगों को फिर से साथ लाने का प्रयास करें.

तृणमूल कांग्रेस 2011 से पश्चिम बंगाल की सत्ता में है. लेकिन भाजपा के लगातार मजबूत होते जाने से पार्टी प्रमुख ममता बनर्जी काफी चिंतित हैं. 17वीं लोकसभा के लिए हुए चुनाव में भाजपा ने पश्चिम बंगाल में अपना सबसे अच्छा प्रदर्शन किया. उसने 18 सीटें जीतीं जबकि 2014 के लोकसभा चुनाव में वह सिर्फ दो सीट ही जीत पाई थी. यानी उसे 16 सीटों का फायदा हुआ. उधर, तृणमूल कांग्रेस को 12 सीटों का नुकसान हुआ। उसने 2014 में यहां 42 में से 34 सीटों पर जीत हासिल की थी. इस बार वह 22 सीट ही जीत पाई. इतना ही नहीं, बीते कुछ समय के दौरान नियमित अंतराल पर तृणमूल नेताओं के भाजपा में शामिल होने की खबरें आ रही हैं.