सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने शनिवार को कहा कि लद्दाख के डेमचोक सेक्टर में चीन ने कोई घुसपैठ नहीं की है. पीटीआई के मुताबिक दिल्ली में एक समारोह के दौरान सेनाध्यक्ष ने कहा, ‘कोई घुसपैठ नहीं हुई है.’ जनरल बिपिन रावत का यह बयान उन रिपोर्टों के बीच आया है कि छह जुलाई को दलाई लामा के जन्मदिवस के मौके पर कुछ तिब्बतियों द्वारा तिब्बती झंडे फहराए जाने के बाद चीनी जवानों ने पिछले सप्ताह वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पार की.

सैन्य प्रमुख ने कहा, ‘चीनी उस वास्तविक नियंत्रण रेखा पर आते हैं जिसे वे अपना मानते हैं और गश्त करते हैं... हम उन्हें रोकते हैं. कई बार स्थानीय स्तर पर जश्न समारोह होते हैं. डेमचोक सेक्टर में हमारी ओर तिब्बती जश्न मना रहे थे. कुछ चीनी यह देखने आए कि क्या हो रहा है, लेकिन कोई घुसपैठ नहीं हुई. सब सामान्य है.’

भारत और चीन के बीच 3,500 किलोमीटर लंबी सीमा है. अभी भी इस सीमा पर मौजूद कुछ इलाकों को लेकर विवाद है जो कभी-कभी तनाव की वजह बनता है. सीमा विवाद के कारण दोनों देश 1962 में युद्ध के मैदान में भी आमने-सामने खड़े हो चुके हैं. दोनों देशों की सेनाओं के बीच डोकलाम में 2017 में 73 दिनों तक गतिरोध की स्थिति बनी रही थी.