भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अध्यक्ष के सिवन ने चंद्रयान- 2 मिशन को अत्यंत प्रतिष्ठित और महत्वपूर्ण अभियान बताते हुए कहा है कि इसे आगामी 15 जुलाई को सुबह दो बजकर 51 मिनट पर लॉन्च कर दिया जाएगा. चंद्रयान- 2 को सतीश धवन स्पेस सेंटर से जीएसएलवी एमके- 3 रॉकेट के जरिए रवाना किया जाएगा. साथ ही चंद्रयान- 2 के लॉन्च के 20 घंटे पहले इसकी उलटी गिनती शुरू कर दी जाएगी. खबरों के मुताबिक के सिवन ने ये बातें एक कार्यक्रम के बाद पत्रकारों के साथ बातचीत करते हुए कहीं.

इस मौके पर उन्होंने यह भी कहा, ‘चंद्रयान- 2 के सफल लॉन्च के बाद इसे चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव तक पहुंचने में करीब दो महीने का समय लगेगा. हमें उम्मीद है कि यह छह या सात सितं​बर को चंद्रमा की सतह पर लैंड करेगा.’ उन्होंने आगे कहा, ‘ऐसा होते ही अमेरिका, रूस और चीन के बाद यह उपलब्धि हासिल करने वाला भारत दुनिया का चौथा देश बन जाएगा.’

इसरो प्रमुख का यह भी कहना था कि इस मिशन के जरिये भारत चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर पहुंचने की कोशिश कर रहा है. आज तक वहां कोई अन्य देश नहीं पहुंचा है. अगर इस मिशन के जरिये भारत वहां बर्फ की खोज कर पाता है तो वहां इंसानों का प्रवास भी संभव हो सकेगा. के सिवन के मुताबिक अगर ऐसा होता है तो अंतरिक्ष विज्ञान की नई खोजों के लिए रास्ता भी तैयार होगा.