पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ पर निशाना साधते हुए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि विदेशों में जमा अपनी अरबों की रकम को सुरक्षित रखने के लिये पाकिस्तानी माफिया संस्थानों और न्यायपालिका पर घूसखोरी, धमकी, ब्लैकमेलिंग जैसे हथकंडे अपना रहा है. इमरान खान ने ट्वीट किया, ‘ठीक ‘सिसलियन माफिया’ की तरह ही पाकिस्तानी माफिया विदेशों में जमा किये गए अपने अरबों रुपयों की सुरक्षा के लिये सरकारी संस्थानों और न्यायपालिका पर रिश्वत,धमकी, ब्लैकमेल और याचना के जरिये दबाव बनाने के हथकंडे अपना रहा है.’

पीएमएल-एन नेता मरियम नवाज द्वारा शरीफ के मुकदमे की सुनवाई से संबंधित वीडियो लीक किये जाने के बाद इमरान खान का यह बयान आया है. पाकिस्तान की जवाबदेही अदालत द्वारा पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को एक मामले में दोषी ठहराये जाने के बाद पीएमएल-एन ने एक वीडियो जारी किया था. जिसमें जवाबदेही अदालत के न्यायाधीश अरशद मलिक यह स्वीकर कर रहे हैं कि उन्होंने नवाज शरीफ को बिना साक्ष्य दोषी ठहराया.

इसके बाद इस्लामाबाद उच्च न्यायालय ने विधि मंत्रालय को लिखा था कि वीडियो को लेकर न्यायाधीशों को संतुष्ट करने में विफल रहे अरशद मलिक को डी-नोटिफाई किया जाए. इसके बाद मलिक ने विपक्षी दल के दावों को खारिज करते हुए कहा था कि यह उन्हें और उनकी संस्था की छवि को धूमिल करने का प्रयास है. अदालत में दिये गए हलफनामे में न्यायाधीश अरशद मलिक ने दावा किया कि उनके एक अनैतिक वीडियो के जरिये उन्हें ब्लैकमेल किया गया और नवाज शरीफ परिवार की तरफ से उन्हें बड़ी रिश्वत की पेशकश की गई.