लोकसभा में सोमवार को ‘राष्ट्रीय अन्वेषण अधिकरण (एनआईए) संशोधन विधेयक- 2019’ पारित हो गया. इस खबर को आज के अधिकतर अखबारों ने पहले पन्ने पर जगह दी है. इस विधेयक के जरिए जांच एजेएसी एनआईए की शक्ति बढ़ाई गई है. इसके तहत अब एजेंसी भारत के साथ विदेश में भी किसी अनुसूचित अपराध के मामले की जांच कर सकेगी. विधेयक पर चर्चा के दौरान गृह मंत्री अमित शाह ने विपक्षी दलों के नेताओं की शंकाओं को खारिज किया. उन्होंने कहा, ‘मोदी सरकार एनआईए कानून के गलत इस्तेमाल का इरादा नहीं रखती. इसका इस्तेमाल आतंकवाद की रोकथाम के लिए किया जाएगा. इस दौरान यह भी नहीं देखा जाएगा कि संबं​धित अपराध को किस धर्म के व्यक्ति ने अंजाम दिया है.’

इंजीनियरिंग संस्थानों से पढ़ाई करने के बाद आधे से अधिक छात्रों को नौकरी नहीं मिल रही : केंद्र सरकार

इंजीनियरिंग संस्थानों से पढ़ाई करने के बाद आधे से अधिक छात्रों को नौकरी नहीं मिल पा रही है. यहां तक कि आईआईटी, एनआईटी और ट्रिपल आईटी जैसे प्रतिष्ठित संस्थानों के भी 23 फीसदी छात्रों का प्लेसमेंट नहीं हो रहा. हिन्दुस्तान में प्रकाशित खबर के मुताबिक इस बात की जानकारी मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने लोकसभा में दी. उन्होंने बताया कि साल 2017-18 में गैर-प्रतिष्ठित संस्थानों से पढ़ाई पूरा करने वाले 7.93 लाख में से केवल 3.59 लाख छात्रों का ही प्लेसमेंट हो पाया. इस तरह की स्थिति साल 2018-19 में भी देखी गई. केंद्रीय मंत्री ने आगे बताया कि प्रतिष्ठित संस्थानों से पास होने वाले 23,298 छात्रों में 5,352 छात्रों को नौकरी नहीं मिली. उन्होंने सदन को बताया कि अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद अगले सत्र में रोजगार की कम संभावना वाले पाठ्यक्रमों को अनुमति नहीं देगा.

झारखंड : विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस की मुश्किलें बढ़ीं

झारखंड में विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस की मुश्किलें बढ़ती हुई दिख रही हैं. नवभारत टाइम्स की खबर के मुताबिक पार्टी के सहयोगी दल झारखंड मुक्ति मोर्चा (जेएमएम) ने विधानसभा की अधिक से अधिक सीटों पर लड़ने का दावा किया है. जेएमएम के प्रमुख हेमंत सोरेन का कहना है कि उनकी पार्टी इतनी सीटों पर चुनाव लड़ेगी कि वह अपने दम पर सरकार बना सके. अखबार ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि जेएमएम राज्य की 81 सीटों में से 41 पर लड़ने की तैयारी में है. पिछले विधानसभा चुनाव (2014) में दोनों पार्टियां अकेले लड़ी थीं. इसके बाद मोर्चा को 19 और कांग्रेस को छह सीटें हासिल हुई थीं. बताया जाता है कि हालिया दिनों में हेमंत सोरेन लगातार इस बात के संकेत दे रहे हैं कि विधानसभा चुनाव में उनकी पार्टी बड़े भाई की भूमिका में होगी.झारखंड में इस साल महाराष्ट्र और हरियाणा के साथ अक्टूबर में चुनाव होने हैं. इससे पहले लोकसभा चुनाव 2019 में कांग्रेस सूबे की 14 में से सात सीटों पर लड़ी थी.

सुप्रीम कोर्ट गर्भपात से संबंधित कानून पर सुनवाई के लिए तैयार

सुप्रीम कोर्ट गर्भपात से संबंधित कानून मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेग्नेंसी एक्ट को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई के लिए तैयार हो गया है. शीर्ष अदालत ने इस पर केंद्र को नोटिस भी जारी किया है. अमर उजाला में छपी खबर के मुताबिक इस याचिका में कहा गया है, ‘यह तय करना महिला का अधिकार है कि वह बच्चा पैदा करना चाहती है या नहीं. कानूनन पाबंदियों से गर्भपात, सेहत, बच्चे पैदा करने और निजता के अधिकार प्रभावित होते हैं.’ वहीं, याचिकाकर्ताओं ने शीर्ष अदालत से गर्भपात को अपराध के दायरे से बाहर करने की मांग की है. मौजूदा कानून में प्रावधान है कि गर्भधारण के 20 हफ्ते बाद गर्भपात की इजाजत नहीं दी जा सकती है. हालांकि, गर्भधारण की वजह से संबंधित महिला की जिंदगी को खतरा होने पर इसकी इजाजत दी जा सकती है.

सुप्रीम कोर्ट ने विदेशी न्यायाधिकरण संशोधन आदेश पर केंद्र सरकार से जवाब मांगा

सुप्रीम कोर्ट ने विदेशी न्यायाधिकरण संशोधन आदेश-2019 को लेकर केंद्र सरकार से जवाब मांगा है. दैनिक जागरण के मुताबिक शीर्ष अदालत ने यह कदम ऑल असम माइनॉरिटीज स्टूडेंट्स यूनियन की ओर से दायर एक याचिका पर सुनवाई करते हुए उठाया. इसमें कहा गया है कि इस आदेश की प्रक्रियाएं लोगों के मौलिक अधिकारों का उल्लंघन करती हैं. याचिका के मुताबिक यह आदेश उन लोगों के लिए भी गलत है जो राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (एनआरसी) में शामिल नहीं किए जाने को चुनौती दे रहे हैं. इस याचिका पर सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता के वकील कपिल सिब्बल ने कहा, ‘इस आदेश से एनआरसी में शामिल होने से छूट गए लोगों की अपील का अधिकार प्रभावित होगा क्योंकि, ऐसे लोगों की गैर-मौजूदगी में भी सुनवाई हो सकेगी.’

पश्चिम बंगाल : भूत बनकर महिला के साथ बलात्कार की कोशिश

पश्चिम बंगाल में भूत बनकर एक व्यक्ति द्वारा महिला के साथ बलात्कार करने की कोशिश का मामला सामने आया है. राजस्थान पत्रिका की खबर के मुताबिक यह मामला बर्धमान जिले का है. बीते एक महीने से पीड़िता के घर भूत का आतंक फैला हुआ था. बीते रविवार की रात को आरोपित सूरज शेख इस आतंक को ढाल बनाकर भूत की वेशभूषा धारण कर पीड़िता के साथ बलात्कार करने की कोशिश करने लगा. हालांकि, महिला के साथ झड़प के दौरान उसकी पहचान उजागर हो गई. बताया जाता है कि आरोपित के खिलाफ स्थानीय पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई गई है. साथ ही, पुलिस उसकी तलाश में जुटी हुई है.