कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी की कुर्सी बची रहेगी या फिर जाएगी, इसका फैसला थोड़ी ही देर में होने वाला है. मुख्यमंत्री ने विधानसभा में विश्वासमत पेश कर दिया है जिस पर फिलहाल चर्चा चल रही है.

एचडी कुमारस्वामी ने भाजपा पर उनकी सरकार को अस्थिर करने का आरोप लगाया है. उन्होंने सवाल किया कि भाजपा इतनी जल्दी में क्यों है. इससे पहले भाजपा नेता बीएस येदियुरप्पा ने कहा था कि विश्वास मत पर चर्चा के लिए समय निर्धारित हो. एचडी कुमारस्वामी का आगे कहना था, ‘मैं सभी मुद्दों पर चर्चा और चुनौती के लिए तैयार हूं. भाजपा सरकार को अस्थिर करने में लगी हुई है. लोकतांत्रिक सरकार के खिलाफ ड्रामा किया जा रहा है. आयाराम-गयाराम विधायकों का सिलसिला चल रहा है. हमें कड़े कानून लाने की जरूरत है ताकि दलबदल को रोका जा सके.’

कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता सिद्धारमैया ने कहा, ‘यहां ऐसे विधायक भी हैं जो एक दिन में 3-3 पार्टियां बदल रहे हैं. देश का राजनीतिक माहौल दूषित हो गया है.’ उनकी ही पार्टी के वरिष्ठ नेता डीके शिवकुमार ने आरोप लगाया कि पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा देश और अदालत को गुमराह कर रहे हैं.

इससे पहले एचडी कुमारस्वामी के सदन में विश्वास प्रस्ताव पेश करने से पहले ही जेडीएस ने अपने तीन बागी विधायकों पर कार्रवाई करते हुए उन पर दल-बदल विरोधी कानून लागू किया है. अगर विधानसभा अध्यक्ष सुप्रीम कोर्ट की शरण लेने वाले सभी 15 बागी विधायकों को अयोग्य ठहरा देते हैं तो सदन में संख्याबल और नतीजे में बहुमत के लिए जरूरी आंकड़ा भी घट जाएगा. इसके बाद 209 विधायकों के पास ही बहुमत परीक्षण में हिस्सा लेने का अधिकार होगा और बहुमत के लिए जरूरी संख्या 105 हो जाएगी.