‘अखबारों के बजाय लोगों का सोशल मीडिया पर भरोसा करना शुभ संकेत नहीं है.’  

— नीतीश कुमार, बिहार के मुख्यमंत्री

नीतीश कुमार ने यह बात बिहार विधानसभा में दिए अपने संबोधन के दौरान कही. इस मौके पर उन्होंने यह भी कहा, ‘सोशल मीडिया पर कई बार घटनाओं को बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया जाता है. लेकिन जब उसी मामले का सही खुलासा होता है तो उसे जगह नहीं मिलती.’ इसके साथ ही नीतीश कुमार ने इसे ‘चिंताजनक’ भी करार दिया.

‘पाकिस्तान में कुलभूषण जाधव की कैद गैरकानूनी है.’

— एस जयशंकर, विदेश मंत्री

एस जयशंकर ने यह बात राज्यसभा में दिए अपने संबोधन के दौरान कही. इस मौके पर उन्होंने कुलभूषण जाधव को लेकर सुनाए गए अंतरराष्ट्रीय न्यायालय (आईसीजे) के फैसले स्वागत किया. साथ ही कहा, ‘आईसीजे का यह फैसला सिर्फ भारत के लिए ही नहीं बल्कि उन सभी के लिए प्रामाणिकता का सबूत है जो कानून-व्यवस्था में विश्वास रखते हैं.’ इसके साथ ही एस जयशंकर का यह भी कहना था, ‘हम पाकिस्तान से एक बार फिर जाधव की रिहाई और स्वदेश वापसी का आग्रह करेंगे.’


‘भारतीय जनता पार्टी कर्नाटक सरकार को अस्थिर करने में लगी हुई है.’ 

— एचडी कुमारस्वामी, कर्नाटक के मुख्यमंत्री

एचडी कुमारस्वामी ने यह बात कर्नाटक विधानसभा में विश्वास प्रस्ताव पेश करने के मौके पर कही. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा, ‘मैं सभी मुद्दों पर चर्चा और चुनौती के लिए तैयार हूं.’ उन्होंने आगे कहा, ‘आज आयाराम-गयाराम विधायकों का सिलसिला चल रहा है. ऐसे में दलबदल रोकने के लिए हमें कड़े कानून की जरूरत है.’ इसके साथ ही एचडी कुमारस्वामी का सवालिया लहजे में यह भी कहना था, ‘भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को कर्नाटक की सरकार गिराने के लिए इतनी जल्दी में क्यों है.’


‘कर्नाटक के मौजूदा राजनीतिक घटनाक्रम में मेरी कोई भूमिका नहीं है.’  

— केआर रमेश कुमार, कर्नाटक विधानसभा के अध्यक्ष

केआर रमेश कुमार ने यह बात ​कर्नाटक विधानसभा में सदस्यों को संबोधित करते हुए कही. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा, ‘मैं इस राजनीतिक खींचतान में शामिल भी नहीं होना चाहता.’ उन्होंने आगे कहा, ‘यह सदन सुप्रीम कोर्ट का पूरा सम्मान करता है और जो सदस्य शीर्ष अदालत जाना चाहते हैं उन्हें ऐसा करने की पूरी स्वतंत्रता है.’ इस मौके पर केआर रमेश कुमार का यह भी कहना था, ‘जो सदस्य सदन में उपस्थित नहीं होना चाहते उनकी हाजिरी दर्ज नहीं की जाएगी. साथ ही उन्हें उस दिन का मानदेय और दूसरे लाभ भी नहीं मिलेंगे.’


‘कांग्रेस का नया अध्यक्ष चुनने की प्रकिया में पार्टी कार्यकर्ताओं की राय को भी पूरा सम्मान दिया जाएगा.’

— जितिन प्रसाद, कांग्रेस के नेता

जितिन प्रसाद ने यह बात एएनआई के साथ बातचीत के दौरान कही. इस मौके पर उन्होंने यह भी कहा, ‘पार्टी का नया अध्यक्ष चुनने की जिम्मेदारी कांग्रेस वर्किंग क​मेटी (सीडब्ल्यूसी) के पास है. सीडब्ल्यूसी पार्टी संविधान के मुताबिक नए अध्यक्ष का चुनाव करेगी.’ इसके साथ ही उनका यह भी कहना था, ‘कई कार्यकर्ता चाहते हैं कि राहुल गांधी के बाद इस पद की जिम्मेदारी प्रियंका गांधी वाड्रा को दी जाए.’ इससे पहले राहुल गांधी ने लोकसभा के पिछले चुनाव में पार्टी को मिली करारी शिकस्त को देखते हुए कांग्रेस के अध्यक्ष का पद छोड़ा था.