बिहार में भीड़ की पिटाई से तीन लोगों की हत्या (मॉब लिंचिंग) का मामला सामने आया है. यह घटना सारण (छपरा) जिले की है. ग्रामीणों का आरोप है कि ये तीनों मवेशी चोरी करने आए थे. मृतकों की पहचान कर ली गयी है. इनके नाम नौशाद कुरैशी, राजू नट और विदेशी नट बताए जा रहे हैं.

हालांकि पुलिस ने इसे मॉब लिंचिंग की घटना मानने से इनकार किया है. बीबीसी के मुताबिक छपरा के पुलिस अधीक्षक हरिकिशोर राय का कहना है, ‘तीनों लोग गांव में भैंस चोरी कर रहे थे. इसी दौरान घर वालों की नींद खुल गयी और तीनों को पकड़ कर उनके साथ मारपीट की गई. इलाज के क्रम में तीनों की मौत हो गयी.’ फिलहाल मामले में तीन लोगों को गिरफ़्तार कर लिया गया है.

हाल में झारखंड में भीड़ की पिटाई से एक युवक की मौत का मामला भी काफी चर्चा में रहा था. राज्य के सरायकेला-खरसावां जिले के पास 24 वर्षीय शम्स तबरेज को कुछ लोगों ने मोटरबाइक चुराने के नाम पर घेर लिया था. फिर एक खंभे से बांध कर सात घंटों तक उसकी बुरी तरह पिटाई की गई. बाद में उसने अस्पताल में दम तोड़ दिया.