कांग्रेस की वरिष्ठ नेता और दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का निधन हो गया है. उन्होंने दिल्ली के फोर्टिस एस्कॉर्ट हार्ट इंस्टीट्यूट में आज दोपहर करीब साढ़े तीन बजे अंतिम सांस ली. शीला दीक्षित बीते कुछ समय से बीमार चल रही थीं. शनिवार को भी उन्हें कार्डिएक एरीथीमिया (हृदय की धड़कनों का अनियंत्रित होना) की परेशानी हुई थी जिसके बाद उन्हें फोर्टिस अस्पताल में भर्ती कराया गया था. इससे पहले बीते साल फ्रांस में भी 81 वर्षीय शीला दीक्षित की एक हार्ट सर्जरी हुई थी.

शीला दीक्षित का अचानक हुआ निधन कांग्रेस के लिए भी एक बड़े झटके के तौर पर भी देखा जा रहा है. फिलहाल वे कांग्रेस की दिल्ली इकाई की अध्यक्ष की भूमिका निभा रही थी. वह पद उन्हें लोकसभा के बीते चुनाव से पहले इसी साल जनवरी में सौंपा गया था. इसके अलावा शीला दीक्षित 1998 से लेकर 2013 त​क लगातार तीन बार दिल्ली की मुख्यमंत्री भी रही थीं जो कि अपने आप में एक रिकॉर्ड है. संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) की अध्यक्ष सोनिया गांधी की करीबी मानी जाने वाली शीला दीक्षित ने अपने राजनीतिक करियर में केरल के राज्यपाल के अलावा संसदीय कार्य राज्य मंत्री की भूमिका भी निभाई थी.

शीला दीक्षित के निधन पर कांग्रेस के तमाम नेताओं के साथ राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शोक जताया है. रामनाथ कोविंद ने एक ट्वीट के जरिये कहा है, ‘उनके कार्यकाल के दौरान दिल्ली में जो बदलाव हुए उसके लिए उन्हें हमेशा याद रखा जाएगा. मैं उनके परिवार और उनसे जुड़े लोगों के प्रति संवेदनाएं व्यक्त करता हूं.’

वहीं नरेंद्र मोदी ने एक ट्वीट के जरिये शीला दीक्षित को भद्र और मिलनसार व्यक्तित्व का धनी बताया. साथ ही कहा, ‘शीला दीक्षित जी के निधन से गहरा दुख हुआ. उन्होंने दिल्ली के विकास में उल्लेखनीय योगदान दिया. उनके परिवार और समर्थकों के प्रति संवेदना.’

शीला दीक्षित के निधन पर कांग्रेस के नेता राहुल गांधी ने भी ट्वीट करके शोक प्रकट किया है. उन्होंने कहा है, ‘कांग्रेस की प्यारी बेटी शीला दीक्षित जी के निधन के बारे में सुनकर मैं बुरी तरह हिल गया. उनके साथ मैंने एक करीबी व्यक्तिगत रिश्ता साझा किया. मेरी उनके परिवार और दिल्ली के लोगों के साथ संवेदना है जिनके लिए उन्होंने मुख्यमंत्री के तौर पर लगातार तीन कार्यकाल तक काम किया.’

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्विटर पर लिखा है कि शीला दीक्षित के निधन से दिल्ली का बड़ा नुकसान हुआ है. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा है कि उनका योगदान हमेशा याद रखा जाएगा.

इधर, अंतिम दर्शन के लिए शीला दीक्षित का पा​र्थिव शरीर उनके दिल्ली स्थिति निजामुद्दीन आवास पर रखा गया है. इस दौरान सोनिया गांधी, ज्योतिरादित्य सिंधिया और भाजपा नेता विजय गोयल सहित कई अन्य राजनीतिक दलों के नेताओं ने वहां जाकर उन्हें श्रद्धांजलि दी है. उनका अंतिम संस्कार कल यानी रविवार को निगम बोध घाट पर किया जाएगा.