महाराष्ट्र में इस साल के अंत तक विधानसभा चुनाव होना है. इसके मद्देनजर भाजपा की अगुवाई वाली राज्य सरकार में गठबंधन सहयोगी शिवसेना महाराष्ट्र में ‘जन आशीर्वाद यात्रा’ निकाल रही है. इसी यात्रा के दौरान पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे के बेटे और पार्टी की युवा इकाई के प्रमुख आदित्य ठाकरे ने कहा है कि महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव के बाद मुख्यमंत्री शिवसेना से होगा. आदित्य ने यह बात ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ को दिए एक इंटरव्यू में कही है.

इस इंटरव्यू में यह पूछे जाने पर कि क्या महाराष्ट्र में भाजपा और शिवसेना बराबर सीटों पर चुनाव लड़ेंगे और क्या दोनों पार्टियां मुख्यमंत्री के पद पर भी ढाई-ढाई साल की कोई सहमति बनाएंगी, आदित्य ठाकरे का कहना था, ‘बिलकुल, शिवसेना का मुख्यमंत्री होगा. और इस बात पर भाजपा प्रमुख अमित शाह जी और शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे जी के बीच फैसला हो चुका है. जिस कमरे में यह बात तय हुई वहां महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के अलावा मैं चौथा व्यक्ति था.’ आदित्य ठाकरे ने यह भी दावा किया है कि विधानसभा चुनाव के बाद भाजपा की सीटें ज्यादा होने पर भी शिवसेना के उम्मीदवार को मुख्यमंत्री बनने का मौका मिलेगा.

इसके साथ पार्टी के कुछ नेताओं द्वारा उन्हें मुख्यमंत्री के चेहरे के तौर पर पेश किए जाने के सवाल पर आदित्य का कहना था कि वे अभी इस बारे में नहीं सोच रहे हैं. वहीं विधानसभा चुनाव लड़ने के सवाल पर उन्होंने कहा है कि अगर पार्टी और कार्यकर्ता चाहेंगे तो वे चुनाव जरूर लड़ेंगे.

लोकसभा के ताजा चुनाव के पहले तक महाराष्ट्र में बीते सालों के दौरान शिवसेना और भाजपा के बीच काफी तनातनी देखी जा रही थी. इस दौरान भी शिवसेना के कई नेता कहते रहे हैं कि महाराष्ट्र की कमान पार्टी को मिलनी चाहिए.