मध्य प्रदेश पुलिस ने ग्वालियर-चंबल क्षेत्र में नकली दूध (सिंथेटिक दूध) बनाने वाले तीन प्लांट पकड़े हैं. इसके साथ ही मध्य प्रदेश पुलिस के विशेष कार्यबल (एसटीएफ) ने नकली दूध के इस कारोबार में लगे 50 से ज्यादा लोगों को अब तक हिरासत में लिया है.

एसटीएफ के अधीक्षक राजेश भदौरिया ने पीटीआई को बताया है कि पुलिस ने मुरैना जिले के अम्बाह और भिण्ड जिले के लहार में स्थित सिंथेटिक दूध बनाने वाले प्लांटों पर छापा मारकर इन्हें पकड़ा है. इस कार्रवाई में पुलिस ने लगभग 10,000 लीटर सिंथेटिक दूध, बड़ी मात्रा में रसायन, 500 किलो सिंथेटिक मावा और 200 किलोग्राम सिंथेटिक पनीर भी बरामद किया है.

भदौरिया के मुताबिक सिंथेटिक दूध और इससे बने उत्पादों का निर्माण और व्यापार करने के आरोप में 62 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. पुलिस ने जानकारी दी है कि इन लोगों द्वारा सिंथेटिक दूध और इसके उत्पादों को मध्य प्रदेश सहित महाराष्ट्र, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, राजस्थान और हरियाणा में बेचा जाता था. पुलिस ने इस अवैध व्यापार के लिए उपयोग में लाए जा रहे 20 टेंकर और 11 पिक अप वाहनों को भी जब्त किया गया है. इस बीच एसटीएफ के जवानों ने शनिवार को एक दर्जन अन्य स्थानों पर भी इसी सिलसिले में छापामारी की है.