भोपाल से भाजपा सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर एक बार फिर अपने बयान को लेकर चर्चा में हैं. मध्य प्रदेश के सीहोर में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, ‘ध्यान से सुन लो, हम नाली साफ़ करवाने के लिए नहीं बने हैं. आपका शौचालय साफ़ कराने के लिए बिल्कुल नहीं बनाए गए हैं. हम जिस काम के लिए बनाए गए हैं वो काम हम ईमानदारी से करेंगे.’ साध्वी प्रज्ञा का यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है. लोग इसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छ भारत अभियान को पलीता लगाने वाला बता रहे हैं.

इससे पहले साध्वी प्रज्ञा महात्मा गांधी की हत्या करने वाले नाथूराम गोडसे पर दिए गए अपने बयान को लेकर चर्चा में आई थीं. लोकसभा चुनाव के दौरान उन्होंने गोडसे को देशभक्त बताया था. इस बयान पर खूब हंगामा हुआ था. चुनाव आयोग ने उन्हें नोटिस भी जारी कहा था. बयान पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी प्रतिक्रिया दी थी. उन्होंने कहा था कि वे ऐसा बयान देने वाले को कभी माफ नहीं करेंगे. इसके बाद पार्टी ने भी प्रज्ञा ठाकुर को नोटिस जारी किया था. चौतरफा आलोचना के बाद उन्होंने अपने इस बयान के लिए खेद जताया था. प्रज्ञा ठाकुर के लोकसभा में सांसद के तौर शपथ लेते वक़्त भी काफ़ी विवाद हुआ था. तब उन्होंने संस्कृत में शपथ लेते हुए अपने गुरु का नाम लिया था.