आईआईटी खड़गपुर के छात्रों ने बुजुर्गों की देखभाल के लिए एक खास एप बनाया है. यह एप किसी बुजुर्ग के गिर जाने की सूरत में उनकी देखभाल करने वालों को तत्काल इसकी सूचना देगा. आईआईटी खड़गपुर की ओर से जारी एक बयान के अनुसार एंड्रॉयड आधारित इस एप का नाम है ‘केयर4यू’ और यह बुजुर्ग तथा उनकी देखभाल करने वाले को आपस में जोड़ेगा. इस एप को बीटेक द्वितीय वर्ष के छात्रों ने बनाया है.

बुजुर्ग व्यक्तियों के फोन में इंस्टॉल्ड यह एप पता लगाएगा कि क्या कोई बुजुर्ग गिर गया है. और ऐसी हालत में यह देखरेख करने वाले को और आपात सेवाओं को अपने आप कॉल कर देगा. साथ ही उस स्थान की सटीक जानकारी देगा जहां बुजुर्ग गिरा है. इतना ही नहीं यह एप बुजुर्ग व्यक्ति की मनोदशा का भी पता लगाएगा. जब कोई बुजुर्ग व्यक्ति यह एप चलाएगा तो फोन उसकी तस्वीर खींचेगा और मूड इंडेक्स की गणना करेगा.

इस एप से संबंधियों को पता चलेगा कि बुजुर्ग का पूरे दिन मूड कैसा रहा. पीटीआई ने इस एप को बनाने वाली टीम में शामिल आईआईटी खड़गपुर के ‘डिपार्टमेंट ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इलेक्ट्रिकल कम्युनिकेशन इंजीनियरिंग’ के छात्र कनिष्क हलदर के हवाले से बताया है कि व्यक्ति के वर्तमान मूड के बारे में पता लगाने के लिए इसे विशेष रूप से बनाया गया है.

वहीं इस एप को तैयार करने वाली टीम के एक अन्य छात्र आदि स्वदिप्तो मंडल ने जानकारी दी है, ‘हमारे एप की सबसे खास बात है कि चैटबॉट (खुद से सूचना देना या रिप्लाई करना) के अलावा बाकी जो फंक्शन हैं, उनके लिए इंटरनेट की जरूरत नहीं है. किसी बुजुर्ग के गिरने की सूचना या मूड डिटेक्शन जैसे काम यह एप बिना इंटरनेट के भी करेगा.’

इसके अलावा इस एप में बुजुर्ग व्यक्ति की मेडिकल हिस्ट्री भी रखी जा सकती है. इसमें ‘मेडिसिन रिमाइंडर’ नाम का एक फीचर है जो बुजुर्ग के साथ-साथ उनकी देखभाल करने वालों को याद दिलाएगा कि उनके दवा खाने का समय हो गया है.