इस साल भारी बाढ़ से जूझ रहे असम के लिए आने वाले दिन और मुश्किलों वाले हो सकते हैं. हिन्दुस्तान टाइम्स की खबर के मुताबिक गुरुवार सुबह पड़ोसी देश भूटान के कुड़ी छू हाइड्रोपावर प्लांट से जुड़े बांध से भारी मात्रा में पानी छोड़ा गया है. इसके चलते राज्य के निचले हिस्से में अलर्ट जारी कर दिया गया है. इससे पहले बीते मंगलवार को भूटान के द्रुक ग्रीन पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड (डीजीपीसी) ने बताया था कि वह 55 मीटर ऊंचे बांध से भारी मात्रा में पानी छोड़ने वाला है. 60 मेगावाट वाला कुड़ी छू हाइड्रोपावर प्लांट चलाने की जिम्मेदारी डीजीपीसी के हाथों में है.

इसे देखते हुए असम के बारपेटा में जिला प्रशासन ने बेकी और पहुमारा नदी के किनारे रहने वालों के लिए रेल अलर्ट जारी कर दिया है. उन्हें ऊंचाई वाली और सुरक्षित जगह पर जाने को भी कहा गया है. इस बारे में बारपेटा के उप-आयुक्त मुनींद्र सरमा ने बताया, ‘हमारे पास मौजूद जानकारी के मुताबिक डीजीपीसी ने गुरुवार सुबह तीन और पांच बजे पानी छोड़ा है. इसे हमारे पास पहुंचने में कई घंटे लगेंगे. लेकिन, हम सावधान हैं.’ वहीं, डीजीपीसी ने बताया कि बांध से प्रति सेकेंड 1200 क्यूबिक मीटर छोड़ा गया है.

बताया जाता है कि भूटान द्वारा पानी छोड़े जाने से बारपेटा के अलावा कोकराझार, बक्सा, बोंगाईगांव और कामरूप जिले प्रभावित होंगे. पहले ही असम के 20 जिलों में बाढ़ से 34 लाख लोग प्रभावित हैं. 75 लोगों की मौत हो चुकी है. इस साल बाढ़ से विस्थापित होने वालों की संख्या राज्य में दो लाख से अधिक पहुंच चुकी है. ये सभी 933 राहत शिविरों में रह रहे हैं.