लोकसभा में सभी दलों ने गुरूवार को पीठासीन सभापति रमा देवी के बारे में सपा नेता आजम खान की टिप्पणी की कड़ी निंदा की है. उन्होंने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला से इस मामले में कठोर कार्रवाई करने की मांग भी की. उधर, लोकसभा अध्यक्ष ने कहा कि वे सभी पार्टियों के नेताओं के साथ इस मुद्दे पर एक बैठक करेंगे और फिर फैसला लेंगे.

इस मामले पर शून्यकाल में निचले सदन में विभिन्न दलों की महिला सांसदों समेत सभी दलों के नेताओं ने अपनी बात रखी. महिला सांसदों ने अध्यक्ष से ऐसी कार्रवाई करने की मांग की जो ‘नजीर’ बन सके.कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि या तो आजम खान इसके लिए माफी मांगें या उन्हें निलंबित कर दिया जाए.

लोकसभा सदस्य आजम खान के आचरण पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि यह पुरुषों समेत सभी सांसदों पर ‘धब्बा’ है. उनका कहना था कि इस घटना से पूरा सदन शर्मसार हुआ है. स्मृति ईरानी ने कहा, ‘उन्होंने कहा कि आप ऐसा कुछ करके, बच कर नहीं जा सकते. यह सिर्फ महिला का सवाल नहीं है. आप (अध्यक्ष) ऐसी कार्रवाई करें कि दोबारा ऐसी बात कहने की कोई हिम्मत न कर सके.’

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि कल जो घटना हुई वह अत्यंत निंदनीय है. उनका कहना था कि कोई महिला बड़ी कठिनाई से ऐसे पद तक पहुंचती है और उसे ऐसा अपमान सहना पड़े यह ठीक नहीं है. उधर, एनसीपी की सुप्रिया सुले ने कहा कि कल की घटना के बाद सिर शर्म से झुक गया है और अगर इस पर सही कार्रवाई नहीं की गई तो आने वाली पीढ़ी माफ नहीं करेगी. डीएमके सांसद कनिमोझी का कहना था, ‘चाहे हम इधर बैठे हों या उधर बैठे हों... लेकिन कल जो घटना घटी उससे सदन का अपमान हुआ है.’