चर्चित क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी की प्रादेशिक सेना के सदस्य के तौर पर कश्मीर में तैनाती पर सेनाध्यक्ष बिपिन सिंह रावत की प्रतिक्रिया आई है. उनका कहना है कि पूर्व कप्तान किसी दूसरे सैनिक की तरह ही अपनी जिम्मेदारी निभाने में सक्षम हैं. घाटी के हालात को देखते हुए महेंद्र सिंह धोनी की सुरक्षा को लेकर चिंताएं जताई जा रही हैं. जनरल बिपिन सिंह रावत ने कहा, ‘जब भारत का कोई नागरिक फौज की वर्दी पहनता है तो उसे वह जिम्मेदारी पूरी करने के लिए भी तैयार रहना पड़ता है जिसके लिए उसे वर्दी दी गई है.’ सेनाध्यक्ष का आगे कहना था, ‘मुझे नहीं लगता कि हमें उनको सुरक्षा देनी होगी, बल्कि वे नागरिकों और अपने मोर्चे की सुरक्षा करेंगे.’

महेंद्र सिंह धोनी 31 जुलाई से 15 अगस्त तक प्रादेशिक सेना की 106वीं बटालियन को सेवाएं देंगे जो कश्मीर में तैनात है. ड्यूटी के तहत तहत वे सुरक्षा बलों के साथ ही रहेंगे और गश्त और सुरक्षा जैसी जिम्मेदारियां संभालेंगे. अपनी रेजिमेंट के साथ रहने के लिए महेंद्र सिंह धोनी ने क्रिकेट से दो महीने का विश्राम लेने का फैसला किया है. यह प्रादेशिक सेना की पैराशूट रेजिमेंट है. 2011 में मानद लेफ्टिनेंट कर्नल का पद पाने वाले धोनी 2015 में पैराट्रूपर होने की पात्रता हासिल कर चुके हैं.