कर्नाटक में बीएस येदियुरप्पा के मुख्यमंत्री पद के शपथग्रहण समारोह का कांग्रेस ने बहिष्कार किया है. इस बारे में कांग्रेस के प्रवक्ता रवि गौड़ा ने बताया है कि पार्टी की कर्नाटक इकाई के अध्यक्ष दिनेश गुंडू राव ने कांग्रेस विधायकों और पूर्व मंत्रियों से इस समारोह के बहिष्कार का आग्रह किया था. इस फैसले के पीछे पार्टी ने दलील दी है कि भाजपा के पास बहुमत नहीं है. ऐसे में मुख्यमंत्री के तौर बीएस येदियुरप्पा को शपथ लेने का कोई अधिकार नहीं है.

उधर, दिनेश गुंडू राव ने खुद भी एक ट्वीट के जरिये येदियुरप्पा के शपथ समारोह को ‘अपवित्र और असंवैधानिक बताया.’ साथ ही कहा, ‘मुख्यमंत्री के तौर पर उनका शपथ लेना अनैतिक है क्योंकि इसका आधार विधायकों की खरीद-फरोख्त और भ्रष्टाचार है.’ इसी ट्वीट से उन्होंने भाजपा नेता के शपथ ग्रहण समारोह को ‘लोकतंत्र पर धब्बा’ भी बताया.

वहीं जेडीएस के नेता और प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने ‘व्यक्तिगत कारणों’ से इस कार्यक्रम से दूरी बनाई. इस दौरान जेडीएस के प्रवक्ता रमेश बाबू ने कहा, ‘येदियुरप्पा ने कुमारस्वामी सहित पार्टी के कई नेताओं को शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने का न्यौता दिया था लेकिन वे अलग-अलग कारणों से उसमें शामिल नहीं हो सके.’

बीएस येदियुरप्पा ने आज शाम करीब साढ़े छह बजे चौथी बार कर्नाटक के मुख्यमंत्री के तौर पर पद और गोपनीयता की शपथ ली है. अब उन्हें आगामी 31 जुलाई से पहले राज्य विधानसभा में बहुमत सिद्ध करना होगा.