पूर्वोत्तर में आई बाढ़ पर भारत से जिन आठ देशों ने अपना सेटेलाइट डेटा साझा किया उनमें चीन पहला था. द इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक यह प्राकृतिक और मानवजनित आपदाओं से निपटने के लिए बनी एक व्यवस्था के तहत हुआ है. इसके 32 सदस्य देश एक-दूसरे के साथ अपने सेटेलाइट डेटा साझा करेंगे. असम में बाढ़ पर डेटा का पहला सेट चीन के गाओफेन-2 नाम के सेटेलाइट से 18 जुलाई को मिला. पूर्वोत्तर का एक बड़ा हिस्सा इन दिनों बाढ़ की चपेट में है.

भारत में चीन के नवनियुक्त राजदूत सन वाइडोंग ने भी इस बारे में एक ट्वीट किया है. उन्होंने कहा कि इसरो के अनुरोध पर यह डेटा भारत के साथ साझा किया गया. उन्होंने बाढ़ प्रभावित इलाकों में हालात जल्द सुधरने की उम्मीद भी जताई.

बाढ़ से जूझ रहे असम में पिछले 24 घंटे में पांच और लोगों की मौत हो गई है. इसी के साथ राज्य में बाढ़ के चलते मरने वालों की संख्या 80 हो गई है. असम के 27 लाख से भी ज्यादा लोग बाढ़ से प्रभावित हैं. डेढ़ लाख से अधिक लोगों ने राहत शिविरों में शरण ली हुई है.