कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री एस जयपाल रेड्डी का शनिवार देर रात हैदराबाद के एक अस्पताल में निधन हो गया. वह 77 वर्ष के थे. जयपाल रेड्डी को हाल में निमोनिया हुआ था और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां देर रात एक बजकर 28 मिनट पर उनका देहांत हो गया. रेड्डी का अंतिम संस्कार सोमवार को होगा.

जयपाल रेड्डी इंद्र कुमार गुजराल सरकार में सूचना एवं प्रसारण मंत्री रहे थे. यूपीए-1 के दौरान उन्होंने मनमोहन सरकार में शहरी विकास और संस्कृति जैसे मंत्रालय संभाले थे. यूपीए-2 सरकार में वह फिर शहरी विकास मंत्री बने. बाद में वह पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री बने लेकिन फिर उन्हें विज्ञान एवं प्रौद्योगिक और पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय सौंप दिए गए. जयपाल रेड्डी चार बार विधायक, पांच बार लोकसभा सांसद और दो बार राज्यसभा सदस्य चुने गए थे.

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जयपाल रेड्डी के देहांत पर शोक जताया है. प्रधानमंत्री कार्यालय ने नरेंद्र मोदी के हवाले से ट्वीट किया, ‘श्री जयपाल रेड्डी को सार्वजनिक जीवन का वर्षों का अनुभव था. उनका स्पष्टवादी वक्ता और प्रभावी प्रशासक के रूप में सम्मान किया जाता था. उनके निधन से दुखी हूं.’ कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने रेड्डी के निधन की खबर पर शोक जताते हुए उन्हें ‘तेलंगाना का महान पुत्र’ बताया. माना जाता है कि तेलंगाना के निर्माण के समय जयपाल रेड्डी ने काफी सक्रिय भूमिका निभाई थी.