इजरायल में आम चुनाव के बीच वहां प्रचार के लिए भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का इस्तेमाल भी सुर्खियां बटोर रहा है. पीटीआई के मुताबिक प्रधानमंत्री बेन्यामिन नेतन्याहू की लिकुड पार्टी के मुख्यालय के बाहर लगे बैनरों में नरेंद्र मोदी की तस्वीर इस्तेमाल की जा रही है. इसमें इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से हाथ मिलाते नजर रहे हैं.

बताया जा रहा है कि बेंजामिन नेतन्याहू ने वैश्विक नेताओं के साथ अच्छे रिश्ते बनाने को अपने चुनाव प्रचार का मुख्य विषय बनाया है. इस तरह के ऐसे ही अन्य पोस्टरों में इजरायल के प्रधानमंत्री के साथ रूस के राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भी हैं. प्रचार अभियान में यह कोशिश की जा रही है कि बेंजामिन नेतन्याहू को इजरायल की राजनीति में एक ऐसे नेता के तौर पर पेश किया जाए जिसका कोई जोड़ नहीं है.

एएफपी

वैसे इजरायल के प्रधानमंत्री नौ सितंबर को एक दिन की यात्रा पर भारत भी आ रहे हैं जहां वे नरेंद्र मोदी से मुलाकात करेंगे. उनकी यह यात्रा मध्यावधि चुनाव से ठीक आठ दिन पहले होगी. कुछ राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि बेंजामिन नेतन्याहू की नई दिल्ली यात्रा की तस्वीरों से यह दिखाने की कोशिश होगी कि उनकी विश्व भर में स्वीकार्यता है और इससे मतदान से कुछ दिन पहले उनके प्रचार अभियान को गति भी मिलेगी.

इससे पहले बीते अप्रैल में हुए चुनाव में प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू गठबंधन सरकार गठित करने में नाकाम रहे. उनकी पार्टी ने रिकॉर्ड पांचवीं बार सबसे ज्यादा सीटें हासिल की थीं, लेकिन वे एक सैन्य विधेयक को लेकर पैदा हुए गतिरोध के कारण गठबंधन करने में नाकाम रहे. इजरायल के इतिहास में यह पहली बार था जब कोई नामित प्रधानमंत्री सरकार का गठन नहीं कर पाया.इसके बाद इजरायली सांसदों ने अभूतपूर्व कदम उठाते हुए संसद को भंग करने के पक्ष में मतदान किया था. अब 17 सितंबर को इजरायल में फिर से आम चुनाव होने हैं.