जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा है कि कश्मीर में किसी व्यक्ति को हिंदुस्तान को तोड़कर आजादी नहीं मिलेगी. उन्होंने यह बात एक कार्यक्रम के दौरान कही. इस मौके पर उन्होंने एक वाकये का भी जिक्र किया. सत्यपाल मलिक ने कहा, ‘एक साल तो मेरा शॉल वाला भी मुझसे पूछता रहा कि साहब आजाद हो जाएंगे क्या? तो मैंने उससे कहा कि तुम तो आजाद ही हो. लेकिन अगर तुम पाकिस्तान के साथ जाने को आजादी समझते हो तो उस तरफ चले जाओ. तुम्हें कौन रोकता है. लेकिन हिंदुस्तान को तोड़कर कोई आजादी नहीं मिलेगी.’

इससे पहले मंगलवार को ही सत्यपाल मलिक ने राज्य के लोगों से धारा 35ए को लेकर फैलाई जा रही अफवाहों पर भी ध्यान न देने की अपील की थी. तब उन्होंने कहा था, ‘जम्मू-कश्मीर में सब कुछ ठीक-ठाक और सामान्य है लेकिन कुछ लोग अफवाहें फैला रहे हैं.​ स्थिति यह है कि अगर लाल चौक पर कोई छींकता भी है तो राजभवन तक पहुंचते-पहुंचते उस घटना को बम विस्फोट बना दिया जाता है.’ उन्होंने आगे कहा, ‘हाल में सोशल मीडिया पर भी कुछ आदेश वायरल हुए हैं लेकिन ये झूठ हैं.’

इससे पहले सोशल मीडिया पर रेलवे सुरक्षा बल के एक अधिकारी का आदेश वायरल हुआ था. इसमें आने वाले दिनों में राज्य की कानून-व्यवस्था बिगड़ने की आशंका जताई गई थी और रेलवे सुरक्षा बलों को चार महीने के राशन का इंतजाम करने के लिए कहा गया था. ऐसी ही एक अन्य खबर में एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी द्वारा कश्मीर की मस्जिदों और उनकी प्रबंधन समितियों का ब्यौरा इकट्ठा करने का निर्देश देने की बात कही गई थी. वहीं दूसरी तरफ बीते हफ्ते केंद्र सरकार ने कश्मीर घाटी में दस हजार अतिरिक्त सुरक्षा बलों की तैनाती की है. इसके बाद से कश्मीर से धारा 35ए और 370 हटाए जाने को लेकर भी अटकलें लग रही हैं.

इस दौरान सोशल मीडिया पर वायरल इन खबरों को लेकर नेशनल कॉन्फ्रेंस (एनसी) के नेता उमर अब्दुल्ला ने भी एक ट्वीट किया है. इसके जरिये उन्होंने कहा है, ‘राज्यपाल ने एक अत्यंत गंभीर मुद्दा उठाया है. सरकार के आला अधिकारियों के फर्जी दस्तखत के जरिये झूठे आदेश जारी किए गए हैं. इसे कुछ भी कहकर खारिज नहीं किया जा सकता. इन फर्जी आदेशों की सीबीआई से जांच करवाई जानी चाहिए ताकि इनके मूल स्रोत का पता लग सके.’