युवा भारतीय क्रिकेटर पृथ्वी शॉ (19) को डोपिंग टेस्ट में फेल होने के कारण निलंबित कर दिया गया है. भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने इस बारे में जानकारी दी है. बीसीसीआई ने कहा कि डोपिंग टेस्ट में फेल होने के कारण पृथ्वी शॉ को आठ माह के लिए निलंबित किया गया है.

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) अपने बयान में कहा कि पृथ्वी शॉ के डोप टेस्ट में जो प्रतिबंधित पदार्थ (टरबुटैलाइन) मिला है, वह आमतौर पर कफ सीरप में होता है. बोर्ड ने कहा पृथ्वी शॉ ने अनजाने में प्रतिबंधित पदार्थ का सेवन किया था, इस बारे में उनके स्पष्टीकरण को स्वीकार कर लिया गया है, लेकिन उन पर निलंबन की कार्रवाई की गई है. बोर्ड के मुताबिक, पृथ्वी शॉ फरवरी 2019 में खली गई सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी के दौरान डोप टेस्ट में फेल हुए थे, इसलिए, उनके निलंबन के लागू होने की तिथि 15 मार्च, 2019 से होगी. इस हिसाब से उनके आठ माह के निलंबन की सजा 15 नवंबर 2019 को पूरी हो जाएगी. पृथ्वी के अलावा दो और भी क्रिकेटर डोपिंग के आरोप में निलंबित किए गए हैं.

19 साल के पृथ्वी शॉ ने अब तक भारत के लिए दो टेस्ट खेले हैं. उनके नाम एक शतक और एक अर्धशतक दर्ज है. उन्हें भारतीय टीम के एक उदीयमान सलामी बल्लेबाज के तौर पर देखा जाता है. हालांकि, फिलहाल वेस्टइंडीज के दौरे पर गई भारतीय टेस्ट टीम में उनका चयन नहीं किया गया था.