अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी हेलीकॉप्टर सौदे के मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) कल अदालत के सामने एक अहम गवाह को पेश करेगा. खबरों के मुताबिक इस गवाह का नाम केके खोसला है. इससे पहले इसी मंगलवार को अगस्ता वेस्टलैंड मामले की सुनवाई के दौरान ईडी ने दिल्ली की एक विशेष अदालत के सामने कथिततौर पर उसकी मौत हो जाने की संभावना जताई थी. लेकिन बुधवार को इस केंद्रीय जांच एजेंसी ने अदालत को केके खोसला के जिंदा होने की जानकारी दी और यह भी कहा कि जरूरत पड़ने पर उसे अदालत के समक्ष पेश किया जा सकता है.

इसके साथ ही ईडी ने खोसला के पास इस मामले से जुड़े कई दस्तावेज होने का भी दावा किया है जिनमें रिश्वत की रकम और उसे पाने वालों के नामों का जिक्र है. ईडी के मुताबिक अगस्ता मामले में रिश्वतखोरी और भ्रष्टाचार साबित करने के लिहाज से वह अहम गवाह साबित हो सकता है. ईडी का यह भी कहना था कि खोसला की तलाश में वह कई बार उसके घर गई थी. लेकिन उस दौरान वह वहां नहीं मिला था. इसी वजह से उसकी मौत की संभावना जताई गई थी. इसके बाद अदालत ने ईडी को उसे कल पेश करने का आदेश दिया.

73 वर्षीय केके खोसला पेशे से चार्टेड अकाउंटेंट हैं. उन्होंने इस मामले के संदिग्ध और मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के भांजे रतुल पुरी के लिए काम भी किया है. वहीं अगस्ता वेस्टलैंड मामले में ईडी रतुल पुरी से पहले भी पूछताछ कर चुकी है. इसके अलावा बीते शुकवार को भी जांच एजेंसी ने उन्हें पूछताछ के लिए अपने दफ्तर बुलाया था. लेकिन तब शौचालय जाने के बहाने अधिकारियों को चकमा देते हुए पुरी वहां से फरार हो गए थे. इसके बाद अपनी गिरफ्तारी की संभावना जताते हुए उन्होंने अदालत से राहत की गुहार लगाई थी. तब अदालत ने अंतरिम राहत देते हुए 31 जुलाई तक के लिए उनकी गिरफ्तारी पर रोक लगा दी थी.