झारखंड में तीन साल की एक बच्ची के साथ सामूहिक बलात्कार और फिर उसकी हत्या का सनसनीखेज मामला सामने आया है. खबरों के मुताबिक यह जघन्य घटना राज्य के जमशेदपुर की है. बताया जा रहा है कि आरोपितों ने पहले बच्ची का अपहरण किया और फिर गला काटकर उसकी हत्या कर दी. 26 जुलाई को बच्ची लापता हुई थी. इसके बाद पुलिस ने तलाशी अभियान चलाया जिसके बाद बच्ची का धड़ बरामद हुआ. स्थानीय अधिकारियों के मुताबिक सिर तलाशने के लिए खोजी कुत्तों की मदद ली जा रही है.

बच्चों को यौन अपराधों से बचाने के लिए 2012 में पॉक्सो कानून बनाया गया था. बीते महीने ही संसद ने इसमें संशोधन के लिए एक विधेयक को मंजूरी दी है. यौन अपराधों से बच्चों का संरक्षण (संशोधन) नाम के इस विधेयक में बच्चों के साथ यौन उत्पीड़न के लिए मौत की सजा तक का प्रावधान है. उनके साथ यौन अपराध के गंभीर मामलों में 20 साल से लेकर आजीवन कारावास और मृत्युदंड की सजा का प्रावधान भी किया गया है. साथ ही अपराधी पर जुर्माना भी लगाया जाएगा. चाइल्ड पोर्नोग्राफी के लिए बच्चों का इस्तेमाल करने पर पांच साल की सजा और जुर्माने का प्रावधान है. कोई दोबारा इस तरह के अपराध में लिप्त पाया जाता है तो सात साल की सजा और जुर्माना लगाया जाएगा.